आधुनिक जीवनशैली से जुड़ी कुछ समस्याएं

आधुनिक जीवनशैली से जुड़ी कुछ ऐसी समस्याएं जो पुरुषों के स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं, जानिए इनसे बचने के उपाय

व्यस्त जीवन शैली के कारण होने वाली स्वास्थ्य समस्याएं महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक प्रभावित करती हैं। इसलिए उन्हें अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना चाहिए। आइए विस्तार से जानते हैं इन समस्याओं के बारे में और इनसे बचने के उपाय के बारे में।

उच्च रक्तचाप

यह एक शारीरिक स्थिति है जिसमें रक्त वाहिकाओं पर रक्त प्रवाह का दबाव बढ़ जाता है। इससे दिल तेजी से काम करता है।

सामान्य सिस्टोलिक रक्तचाप (उच्च रक्तचाप की सीमा) 100 से 140 मिमी एचजी है, लेकिन यदि रक्तचाप इस अधिकतम से ऊपर है, तो ऐसी स्थिति को उच्च रक्तचाप के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। तनाव, अनिद्रा, जंक फूड, कॉफी, शराब और सिगरेट को इस समस्या के लिए जिम्मेदार माना जाता है।

रोकथाम और उपचार

घी तेल, मिर्च मसाले और नमक का सेवन सीमित मात्रा में करें।

शराब और सिगरेट से दूर रहें।

नियमित व्यायाम करें और सैर पर जाएं।

पर्याप्त नींद अगर बेचैनी, घबराहट, चक्कर आना, आंखों का काला पड़ना जैसे लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

अगर परिवार में बीमारी चलती है, तो बिना किसी लक्षण के साल में कम से कम दो बार अपने रक्तचाप की जांच कराएं।

बीपीएच समस्या

बीपीएच (सौम्य प्रोस्टेटिक हाइपरप्लासिया) कुछ वृद्ध पुरुषों में बढ़े हुए प्रोस्टेट की विशेषता वाली स्थिति है। इससे उनके यूरिनरी ट्रैक्ट पर अधिक दबाव पड़ता है और उन्हें बार-बार बाथरूम जाने की जरूरत महसूस होती है। गंभीर मामलों में पेशाब में दर्द और पेशाब में खून आना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

निदान

क्योंकि यह उम्र से संबंधित समस्या है। इसलिए, पहले से इसे रोकने का कोई विशेष तरीका नहीं है। हां, अगर शुरुआती दौर में लक्षण पकड़ में आ जाते हैं, तो उन्हें दवा से नियंत्रित किया जा सकता है।

दिल की बीमारी

यदि हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को समय रहते नियंत्रित नहीं किया गया तो यह हृदय रोग का कारण भी बन सकता है। इसलिए इस समस्या के लिए वही कारण जिम्मेदार होते हैं, जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है।

इसका मुख्य लक्षण हृदय की धमनियों में रुकावट है। हार्ट अटैक के मुख्य लक्षण हैं बायीं छाती में दर्द, सांस लेने में तकलीफ, बोलते समय जीभ कांपना और आंखों का काला पड़ना।

रोकथाम और उपचार

चिकनाई वाली चीजों से दूर रहें। इससे धमनियों में खराब कोलेस्ट्रॉल एलडीएल जमा हो जाता है, जो दिल के दौरे के लिए जिम्मेदार होता है।

हमेशा खुश रहें तनाव में हृदय की रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं, जिससे रक्त का प्रवाह बाधित हो जाता है और व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

व्यायाम और सुबह की सैर को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।

अगर कभी किसी व्यक्ति में दिल का दौरा पड़ने के लक्षण दिखाई दें तो जीभ पर तुरंत 300 मिग्रा. एस्पिरिन की गोली अपने पास रखें और तुरंत अस्पताल जाएं।

यह भी पढ़ें :–

थायरॉइड कैंसर के इलाज के लिए नई तकनीक का बिड़ला अस्पताल में परीक्षण किया गया

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.