एलआईसी शेयर अब तक के सबसे निचले स्तर पर

एलआईसी: शेयर अब तक के सबसे निचले स्तर पर, शेयर ने इश्यू प्राइस का लगभग 16% खो दिया है; निवेशकों को आगे क्या करना चाहिए?

एलआईसी शेयर : बीएसई पर 3 जून 2022 सत्र के दौरान एलआईसी के शेयर 801 रुपये के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गए। शेयर ने अपने इश्यू प्राइस में करीब 16 फीसदी की गिरावट दर्ज की है। देश के अब तक के सबसे बड़े आईपीओ की बाजार में लिस्टिंग कमजोर रही।

कीमत बढ़ने की उम्मीद में निवेश करने वाले निवेशकों को निराशा हाथ लगी। शेयर करीब 8-9 फीसदी की छूट पर लिस्ट हुआ था। हालांकि जानकारों का मानना ​​है कि एलआईसी लंबी रेस का घोड़ा है। आपको यहां दीर्घकालिक सोचना चाहिए।

वहीं, ब्रोकरेज फर्म एमके ने एलआईसी पर “होल्ड” रेटिंग के साथ रिपोर्टिंग शुरू कर दी है। ब्रोकर का कहना है कि शेयर का मूल्यांकन आकर्षक है। कंपनी अपने सेगमेंट में मार्केट लीडर है।

एलआईसी: शेयर अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है

LIC का स्टॉक 3 जून 2022 के सत्र में BSE पर 801.05 रुपये के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया। 17 मई 2022 को, बीएसई पर स्टॉक को 9% छूट पर 867 रुपये और एनएसई पर 872 रुपये पर 8% छूट पर सूचीबद्ध किया गया था।

निवेशकों ने इस आईपीओ की लिस्टिंग देखी। एलआईसी के आईपीओ का निर्गम मूल्य 949 रुपये प्रति शेयर था, जिसमें खुदरा निवेशकों को 45 रुपये की छूट और पॉलिसीधारकों को 60 रुपये की छूट मिली थी। इस तरह इश्यू प्राइस के मुकाबले शेयर में करीब 16 फीसदी की गिरावट आई है।

एमका की रेटिंग एलआईसी पर रखें

ब्रोकरेज रिसर्च फर्म एमके ने होल्ड रेटेड एलआईसी का कवरेज शुरू कर दिया है। मूल्य लक्ष्य 875 रुपये प्रति शेयर रखा गया था, जो कि जून’23ई के एम्बेडेड मूल्य (ईवी) का 0.9 गुना है। ब्रोकर का कहना है कि स्टॉक के आउटलुक को तीन कारकों के आधार पर तटस्थ रखा गया है। सबसे पहले, ईवी की तुलना में नए व्यवसाय (वीएनबी) का मूल्य छोटा है।

दूसरा, निजी क्षेत्र के समकक्षों की तुलना में विकास-वृद्ध प्रीमियम समकक्ष (एपीई) और मार्जिन मूल्यांकन कमजोर हैं। क्योंकि एलआईसी की कमीशन लागत और परिचालन लागत अधिक है। तीसरा, ईवी में अस्थिरता है क्योंकि लगभग 35 प्रतिशत गैर-समर्थक संपत्ति स्टॉक हैं।

ब्रोकरेज हाउस का कहना है कि एलआईसी बीमा क्षेत्र में मार्केट लीडर है, जबकि वैल्यूएशन अपने प्रतिस्पर्धियों से बेहतर है। कंपनी के दबदबे वाले आकार के कारण परिचालन संबंधी चुनौतियां छिपी हुई हैं। हालांकि, कंपनी के सामने अभी भी कुछ चुनौतियां हैं।

निवेशकों को हुआ 1 लाख करोड़ का नुकसान!

ब्रोकर का कहना है कि एलआईसी की बाजार हिस्सेदारी आवासीय एपीई आधार पर और वित्त वर्ष 22 में कुल एपीई क्रमशः 37 प्रतिशत और 42 प्रतिशत थी।

एक दशक पहले, हालांकि, यह 63 प्रतिशत और 65 प्रतिशत था। जबकि 5 साल पहले यह 62 फीसदी और 51 फीसदी थी. इससे साफ पता चलता है कि कंपनी की बाजार हिस्सेदारी में धीरे-धीरे कमी आई है। इस क्षेत्र में निजी कंपनियों की बाजार हिस्सेदारी बढ़ रही है।

आईपीओ में एलआईसी की वैल्यूएशन 6 लाख करोड़ रुपए थी, जबकि कंपनी की मार्केट शेयर अब घटकर 5.06 लाख करोड़ रुपए रह गई है। इसका मतलब है कि लगभग 1,000,000 निवेशक डूब गए थे।

एलआईसी: आप एक विशेषज्ञ को क्या कहते हैं?

स्वास्तिका इन्वेस्टमार्ट लिमिटेड के रिसर्च हेड संतोष मीणा का कहना है कि एलआईसी अपने उद्योग में एक बड़ी कंपनी है। कंपनी ने हाल ही में नतीजे जारी किए हैं। 2022 की चौथी तिमाही में कंपनी का शुद्ध प्रीमियम (YoY) 18 प्रतिशत बढ़ा।

निवेश से आय लगभग अपरिवर्तित रही। FY22 के लिए शुद्ध आय में 40 प्रतिशत की वृद्धि हुई। प्रबंधन से जून 2022 के बाद डीएसओ मार्जिन और ईवी पर रिपोर्ट में स्पष्टता प्रदान करने की उम्मीद है।

हालांकि, प्रबंधन का मानना ​​है कि अगले 5 वर्षों में मार्जिन उद्योग के औसत तक पहुंच सकता है। लिस्टिंग के बाद से कंपनी के शेयर की कीमत में काफी सुधार हुआ है। यह निवेशकों को लंबी अवधि में स्टॉक जमा करने की सलाह देता है।

एलआईसी की चौथी तिमाही की कमाई घटी

LIC ने 2022 की मार्च तिमाही में 2409 करोड़ रुपये का लाभ कमाया, जो पिछले साल की समान अवधि से 17.41 प्रतिशत कम है। वहीं, पूरे वित्त वर्ष में कंपनी का मुनाफा 4,043.12 करोड़ रुपये रहा, जो सालाना आधार पर 40 फीसदी ज्यादा है।

मार्च 2022 को समाप्त तिमाही में एलआईसी का कुल राजस्व 11.64 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) बढ़कर 2,11,471 करोड़ रुपये हो गया। कंपनी ने 1.50 रुपये प्रति शेयर के लाभांश की घोषणा की है।

 

यह भी पढ़ें :–

दुनिया के पांचवे सबसे अमीर बिजनेसमैन बने गौतम अडानी, जानिए बिल गेट्स से कितना पीछे

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.