संपत्ति गिरवी नहीं रखनी पड़ेगी, किसानों को डेयरी फार्मिंग के लिए बिना जमानती कर्ज मिलेगा

डेयरी फार्मिंग व्यवसाय ग्रामीण क्षेत्रों के लिए अधिक उपयुक्त माना जाता है। इस उद्योग को बढ़ावा देने के लिए सरकार किसानों को आर्थिक सहायता भी देती है। इसके लिए किसानों को सरकार से आसानी से कर्ज भी मिल जाता है।

भारतीय स्टेट बैंक डेयरी व्यवसाय शुरू करने के लिए किसानों को ऋण भी प्रदान करता है। इसके लिए आपको भारतीय स्टेट बैंक की नजदीकी शाखा में संपर्क करना होगा। इस कर्ज की सबसे खास बात यह है कि इसके लिए किसानों को अपनी कोई संपत्ति गिरवी रखने की जरूरत नहीं है।

लाख तक का ऋण प्राप्त करें

स्वचालित दूध संग्रह प्रणाली मशीन खरीदने के लिए बैंक अधिकतम 1 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान करता है। डेयरी फार्म निर्माण के लिए 2 हजार रुपये, मिल्क वैन खरीदने के लिए 3 हजार रुपये। साथ ही दूध को ताजा रखने के लिए चिलिंग मशीन लगाने के लिए 4 लाख रुपए तक का कर्ज देती है। यह कर्ज 6 महीने में 5 साल तक चुकाना होता है।

इस कर्ज की खास बात यह है कि इसे लेते समय किसानों को कोई संपत्ति गिरवी नहीं रखनी होगी। बैंक पत्र संग्रह, भवन निर्माण, स्वचालित पत्र मशीन, पत्र संग्रह प्रणाली, परिवहन के लिए उपयुक्त मशीन की खरीद के लिए ब्याज दर 10.85% से शुरू होती है, जो अधिकतम 24% तक जाती है।

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत अनुदान मिलता है

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के तहत किसान डेयरी व्यवसाय के लिए 25 प्रतिशत अनुदान भी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप आरक्षित कोटे से हैं और आप 33% सब्सिडी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको 10 पशुओं के साथ यह व्यवसाय शुरू करना होगा। इसके लिए प्रोजेक्ट फाइल तैयार कर नाबार्ड कार्यालय में संपर्क करना होगा।

यह भी पढ़ें :–

लम्पी जैसी बीमारी से नहीं मरेंगे जानवर! इस राज्य में गायों के लिए खुला है ICU, निम्न सुविधाएं उपलब्ध हैं

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *