क्यों होता है दिल का दौरा? इस वजह से सिद्धार्थ शुक्ला की जान चली गई

क्यों होता है दिल का दौरा? इस वजह से सिद्धार्थ शुक्ला की जान चली गई

सिद्धार्थ शुक्ला को गुरुवार को दिल का दौरा पड़ा जिससे उनकी अचानक मौत हो गई, इस खबर से पूरी फिल्म इंडस्ट्री समेत उनके दोस्त और फैंस भी शोक में हैं।

मुंबई के कूपर अस्पताल के डॉक्टर का कहना है कि जब सिद्धार्थ को अस्पताल ले जाया गया तो सिद्धार्थ की पहले ही मौत हो चुकी थी। ऐसा अनुमान है कि सिद्धार्थ की नींद में ही मौत हो गई होगी।

आपको बता दें कि सिद्धार्थ की अचानक मौत की खबर निश्चित रूप से चौंकाने वाली और चौंकाने वाली है। क्योंकि ये तो सभी जानते हैं कि सिद्धार्थ अपनी बॉडी की फिटनेस के लिए खूब सारा खेल और अच्छा पोषण लेते थे, लेकिन दुनिया से उनके जाने से सभी को दुख होता है।

हार्ट अटैक से मौत कोई नई बात नहीं है, लेकिन कई बार यह अटैक इतना खतरनाक होता है कि इंसान एक सेकेंड में ही अपनी जान गंवा देता है। क्या आप जानते हैं दिल का दौरा क्यों पड़ता है?

हमारे शरीर में हृदय कहाँ और कैसे कार्य करता है?
हृदय हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है, यह एक ऐसी मांसपेशी है जो पंप की तरह काम करती है। दिल का आकार हमारी मुट्ठी के बराबर होता है, यह छाती के बाईं ओर और दो फेफड़ों के बीच होता है।

यह पंप करता रहता है, जिसका अर्थ है कि यह पल-पल सिकुड़ता और फैलता है। संकुचन और विस्तार के कारण हमारे शरीर की रक्त वाहिकाओं में रक्त का प्रवाह निरंतर होता रहता है।

तो आता है दिल का दौरा
बता दें कि दिल अपने आप में एक मसल है और इसे अपना काम करने के लिए खून की भी जरूरत होती है। रक्त को हृदय तक ले जाने वाली धमनियों को कोरोनरी धमनियां भी कहा जाता है।

ये धमनियां हृदय के लिए तब तक बहुत महत्वपूर्ण हैं जब तक वे पर्याप्त रूप से रक्त की आपूर्ति करती हैं, उसे ऑक्सीजन देती हैं और अपना काम ठीक से करती हैं।

जब रक्त और ऑक्सीजन हृदय तक ठीक से नहीं पहुंच पाता है, तो हृदय अपना काम ठीक से नहीं कर पाता है और ऐसे में लोगों को आमतौर पर सीने में तेज दर्द का अनुभव होता है, जो दिल के दौरे का संकेत है।

पंजाब केसरी

क्यों होता है दिल का दौरा?
उसके बाद भी हर किसी के मन में यह शंका रहती है कि आखिर हार्ट अटैक क्यों आता है। हार्ट अटैक का मतलब है खून की कमी से अंग का खराब हो जाना और इसके कई कारण हो सकते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि लुब्रिकेंट, जिसे कोलेस्ट्रॉल के रूप में भी जाना जाता है, हृदय को रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों में जमा हो जाता है, तो धमनियों में रक्त ठीक से प्रवाहित नहीं होगा।

इस ब्लॉकेज की वजह से दिल में खून की कमी हो जाती है और सीने में दर्द होता है, जिसे एनजाइना पेक्टोरिस भी कहते हैं। कभी-कभी ऑक्सीजन की रुकावट के कारण धमनियों में रक्त का प्रवाह ठीक से नहीं हो पाता है।

दिल का दौरा पड़ने के लक्षण
जब दिल का दौरा पड़ता है, तो कुछ विशेष लक्षण होते हैं, जैसे:
– सीने में तकलीफ या दर्द
– सीने में जकड़न या छींक आना
– आपके हाथ, गर्दन, जबड़े या पीठ में दर्द
-ठंडा पसीना
– मिचली आना
– नाराज़गी या पेट दर्द
साँसों की कमी
-थकान

इस उम्र के बाद एक परीक्षा अवश्य लें।
आज के बदलते दौर में हार्ट अटैक की समस्या किसी भी उम्र में हो जाती है, लेकिन 35 साल से अधिक उम्र के किसी भी व्यक्ति या जिसे हाई कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, मोटापा या दिल की समस्या है, उसे नियमित जांच करानी चाहिए।

यह भी पढ़ें :–

सेक्स लाइफ का भरपूर आनंद लें, वीर्य की कमी को दूर करने के लिए करें ये उपाय

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.