गर्भाशय से जुड़ी खतरनाक बीमारियाँ उनके लक्षण और उपचार

अक्सर देखा गया है कि महिलाओं में गर्भाशय से जुड़ी कई सारी बीमारियाँ हो जाती हैं । लेकिन यदि बिमारियों के लक्षणों पर ध्यान न दिया जाए और उन्हें नजरअंदाजकर दिया जाए तो यह जानलेवा भी साबित हो जाती है । कैंसर दुनिया भर में एक महामारी के रूप में फैल रहा है और महिलाओं में गर्भाशय में होने वाला कैंसर इसमें चौथे स्थान पर आता है । यह एक खतरनाक बीमारी है और इस बीमारी के कारण हर साल लगभग पांच लाख से भी ज्यादा महिलाएं प्रभावित होती हैं । ह्यूमन पेपिलोमा वायरस के कारण महिलाओं में गर्भाशय का कैंसर हो जाता है ।

आगे जानते हैं इस बीमारी के कारण लक्षण और इसके लिए क्या उपाय अपनाए जाने चाहिए । एक शोध से इस बात की जानकारी मिली है कि बहुत से महिलाओं में गर्भाशय यानी कि सर्वाइकल कैंसर में ज्यादातर इलाज में लापरवाही बरतने के कारण यह जानलेवा बन जाते हैं । जब किसी महिला के गर्भाशय में कैंसर हो जाता है तो उसकी कोशिकाओं में अनियमित वृद्धि होने लगती है । एक शोध से यह भी पता चला है कि ज्यादातर महिलाओं में होने वाला  सर्वाइकल कैंसर गर्भपात होने से बचाने वाली दवाइयों के सेवन की वजह से होता है ।

यदि किसी महिला ने योनि से असामान्य रक्तस्राव होने लगे तो यह उस महिला में गर्भाशय के कैंसर होने का लक्षण हो सकता है । इसके अलावा पीरियड में इस्तेमाल होने वाला टैम्पून इस्तेमाल करते समय भी असामान्य रक्तस्राव होता है और साथ ही यदि योनि में दर्द, कमर में दर्द और पैरों में दर्द महसूस हो या फिर थकान, वजन में कमी और भूख ना लगे तो यह सब भी गर्भाशय के कैंसर के लक्षणों में से एक माना जाता है । आज के समय में  किसी भी प्रकार का कैंसर लाइलाज नहीं रह गया है  बशर्ते यदि शुरुआती चरण में ही उसका पता लग जाता है तो इसका इलाज संभव है ।

इसलिए किसी भी महिला में यदि ऊपर बताए गए लक्ष्यों में से कोई भी परेशानी हो तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए । किसी भी प्रकार की बीमारियों से बचने के लिए हमेशा स्वास्थ्यवर्धक भोजन करना चाहिए और साथ में व्यायाम भी करना चाहिए ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.