चौसा आम का पहली बार समुद्र के रास्ते भारत द्वारा निर्यात

भारत से यूरोप पहले आम हवाई मार्ग से भेजा जाता था । पहली बार समुद्री मार्ग से १० टन चौसा आम यूरोप भेजा गया है भारत में आमों का उत्पादन 15,026 टन होता है जबकि चीन में 4,351 टन, थाईलैंड में 2,550 टन और पाकिस्तान में 1,845 टन होता है ।

प्रयागराज के एक व्यापारी ने मलिहाबाद का चौसा आम गुजरात के बंदरगाह से समुद्र के रास्ते यूरोप  भेजने में कामयाबी पाई है।

यह आम  भारत से स्पेन के रास्ते 17-18 दिन में इटली पहुंचेगा ।ये संभव हो पाया है मलिहाबाद के समीप मैंगो पैक हाउस की स्थापना के बाद जहाँ आधुनिक तरीके से फल सब्जियों को पैक कर उपलब्ध कराया जा रहा है ।

पहले 120 से 125 रूपये कीलो खर्चा आता था हवाई मार्ग से आम भेजने पर परन्तु समुद्र मार्ग से खर्चा मात्रा 28 रूपये किलो आता है ।

आप को जान कर आश्चर्य होगा की दुनिया में आमों के उत्पादन में इसराइल नंबर एक पर  आता है. वहां आमों का कुल उत्पादन 50 हजार टन होता है . इसराइल प्रति  बर्ष 20 हजार टन आमों का निर्यात करता है ।

इसराइल ने 5 क़िस्म के आमों का पेटेंट कराया हुआ है जो सिर्फ इसराइल में उत्पादन होता है । इसराइल में एक हेक्टेयर में औसतन  30-40 टन आम का उत्पादन होता है  है जबकि दूसरे देशों में 10 टन प्रति हेक्टेयर का ही उत्पादन  हो पाता है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.