दलेर मेहंदी बर्थडे स्पेशल: दलेर मेहंदी नाम के पीछे की दिलचस्प कहानी

आज भी लोग ‘ना ना ना ना रे ना रे ना’…, बोलो ‘ता रा रा रा’ जैसे कई गाने सुनकर नाचने को मजबूर हैं. ऐसे गानों पर दमदार आवाज का जादू बिखेरने वाले पॉप सिंगर दलेर मेहंदी का आज जन्मदिन है।

उन्होंने 1995 में बोलो ‘ता रा रा रा’ के साथ अपना पहला एल्बम बनाया। यह गाना हिट हुआ था। उसके बाद एक से बढ़कर एक गानों में खूब मस्ती की।

दलेर मेहंदी का जन्म 18 अगस्त 1967 को पटना, बिहार में हुआ था। एक गायक के अलावा, वह एक गीतकार, लेखक और रिकॉर्ड निर्माता भी हैं।

लंबे संघर्ष के बाद मिली नौकरी

दलेर मेहंदी ने अपनी ऊंची लोकप्रियता से लोगों के दिलों में खास जगह बनाई है, लेकिन इसके लिए उन्होंने काफी मेहनत की थी।

आपको बता दें कि लंबे संघर्ष के बाद दलेर ने अपने लिए खास जगह ढूंढी है. बिहार में जन्मी गायिका को अपनी पहचान बनाने में काफी समय लगा।

उन्होंने पटना से मुंबई तक अपनी मेहनत से अपना नाम बनाया। बोलो तारा रा रा.. पहली हिट थी. उसके बाद उन्हें कई बड़े एलबम में गाने के ऑफर आए।

तब सफलता इतनी बड़ी थी कि उन्होंने अमिताभ बच्चन और आमिर खान जैसे सितारों को भी अपनी आवाज दी थी।

दिलचस्प नाम
कई अभिनेताओं, गायकों और अन्य हस्तियों के नाम के पीछे एक कहानी है। दलेर मेहंदी नाम के पीछे भी एक मजेदार कहानी है। बता दें कि, डकैत दलेर सिंह के नाम से प्रभावित होकर उनके माता-पिता ने उन्हें वह बुलाया।

ऐसी ही एक स्थिति में जब दलेर बड़े हो रहे थे, तब प्रसिद्ध गायक परवेज मेहंदी के नाम पर “सिंह” के स्थान पर “मेहंदी” जोड़ा गया।

इस तरह दलेर सिंह “दलेर मेहंदी” बन गए। इसका पूरा नाम दो नामों को मिलाकर जोड़ा गया, जो तब से एक प्रसिद्ध नाम बन गया है।

विवादों में भी नहीं रहे दलेर पीछे

बड़े सितारों का विवादों में आना आम बात है. इस दौरान दलेर मेहंदी नाम भी विवादों में रहा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बख्शीश सिंह नाम के शख्स ने दलेर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

उनका दावा था कि दलेर को लोगों को विदेश भेजने के लिए काफी पैसों की जरूरत है. इसके अलावा दलेर मेहंदी उस समय भी विवादों में रहे थे जब उन्होंने यशराज फिल्म्स के खिलाफ केस दर्ज कराया था।

इस केस को फिल्म ‘झूम बराबर झूम’ के टाइटल ट्रैक के सिलसिले में अंजाम दिया गया था। यह आरोप लगाया गया है कि यश राज ने गाने में शंकर महादेवन की आवाज को रिप्लेस किया था।

बाद में जब यश राज ने कहा कि अमिताभ यही चाहते हैं तो दलेर ने कहा कि ऐसा नहीं हो सकता। उन्होंने ना ना ना ना ना रे ना रे ना गाना सिर्फ अमिताभ की फिल्म ‘मृत्युदाता’ के लिए गाया था।

कई हिट फिल्मों दी

दलेर मेहंदी ने लोगों को खूब झुलाया। एक समय था जब किसी पार्टी में केवल दलेर के गाने ही बजाए जाते थे और लोग नाचना बंद नहीं करते थे। दलेर मेहंदी ने पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री में कई हिट फिल्में दी हैं।

बता दें, दलेर को बचपन से ही संगीत का शौक रहा है। उनके शिक्षक उनके अपने माता-पिता थे। 11 साल की उम्र में दलेर उस्ताद राहत अली खान के साथ ट्रेनिंग करने के लिए अपने घर से भाग गए थे।

उन्होंने संगीत उस्ताद के साथ 1 साल तक प्रशिक्षण लिया। उनके गाने हो गए बल्ले-बल्ले…, तुनक तुनक दो…, बोलो ता रा रा.., सजन मेरा सतरंगिया .., ना ना ना रे .. अभी भी हिट हैं।

 

यह भी पढ़ें :–

इंडियन आइडल-12: उत्तराखंड के पवनदीप राजन ने इंडियन आइडल 12 की ट्रॉफी, लग्जरी कार जीती, 25 लाख रुपये भी जीते

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.