नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 को लेकर अभिनेता फरहान अख्तर पर पुलिस में शिकायत

नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 को लेकर अभिनेता फरहान अख्तर पर पुलिस में शिकायत

इन दिनों पूरे भारत में विभिन्न राज्यों में सिटीजन अमेंडमेंट एक्ट (सीएए) यानी नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 को लेकर विरोध देखने को मिल रहा है । जहां एक तरफ काफी संख्या में लोग नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रहे हैं तो बहुत सारे ऐसे भी लोग हैं जो इसका समर्थन कर रहे हैं ।

अभिनेता फरहान अख्तर को नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 का विरोध करने तथा लोगों को भड़काने और लोगों में डर फैलाने के आरोप में पुलिस में उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है । यह शिकायत हिंदू संगठन ने फरहान अख्तर के ट्वीट को लेकर की है जिसमें फरहान अख्तर पर आरोप लगाया गया है कि वे अपने ट्वीट के माध्यम से दलितों, मुसलमानों और नास्तिकों के बीच भय पैदा कर रहे हैं ।

इसी बात को लेकर फरहान अख्तर के खिलाफ हिंदू संगठन द्वारा तेलंगाना के हैदराबाद के सईदाबाद पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज की गई है । संसद द्वारा नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 पारित हो जाने के बाद बॉलीवुड के कई कलाकारों ने इस पर अपना विरोध जताया है । विरोध जताने वाले में फरहान अख्तर भी शामिल है ।

वही ऐसे भी कई कलाकार हैं जिन्होंने इस बिल का समर्थन किया है जैसे अनुपम खेर । कई सारे कलाकारों ने बाहर आकर अपनी आवाज उठाई और अधिनियम के प्रति चिंता जाहिर की । इसी सिलसिले में फरहान अख्तर ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर एक लेख लिखा कि वह 19 दिसंबर को मुंबई में सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल होंगे और अपनी ट्वीट को लेकर विवाद में आ गए ।

पहले विवाद भारत का गलत नक्शा पोस्ट करने के लिए जिसे बाद में फरहान अख्तर ने हटा लियस । उसके बाद फरहान अख्तर के खिलाफ एक हिंदू संगठन द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई । यह शिकायत जिस ट्वीट के आधार पर कराई गई है उसमें लिखा गया है ‘यहां आपको यह जानना आवश्यक है कि यह विरोध प्रदर्शन क्यों महत्वपूर्ण है, 19 अगस्त को मुंबई के क्रांति मैदान में मिलते हैं । अकेले सोशल मीडिया पर विरोध करने का समय खत्म हो गया है’ ।

फरहान अख्तर के खिलाफ शिकायत में कहा गया है फरहान का पोस्ट से डर, अराजकता और भड़काने वाला है । इसके चलते मुस्लिम, ट्रांसजेंडर, नास्तिक, दलितों को राष्ट्र के खिलाफ युद्ध छेड़ने के लिए उकसाया जा रहा है । इससे देश में अराजकता बढ़ सकती है और यह समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देता है ।

आगे इस शिकायत में लिखा गया है फरहान के पोस्ट से यह मैसेज भी निकलता है कि हाल में ही लागू नागरिकता संशोधन अधिनियम 2019 से मुस्लिम, ट्रांसजेंडर, दलितों और नास्तिक को और भूमिहीन को डॉक्यूमेंट ना होने पर देश से बाहर निकाला जा सकता है या फिर उन्हें जेल में बंद किया जा सकता है । अब पुलिस साइबर से मदद लेकर फरहान अख्तर के ट्वीट की पड़ताल रही है  जिसके आधार शिकायत का केस बनाया जा सकता है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.