मोटापे के प्रति आपका लापरवाह रवैया हो सकता है मौत का कारण

मोटापे के प्रति आपका लापरवाह रवैया हो सकता है मौत का कारण, पढ़ें खास रिपोर्ट

मोटापा के बारे में लापरवाह रवैया रखने वालों के लिए दो सवाल हैं। पहला सवाल: क्या मोटापा भी मौत का कारण बन सकता है? दूसरा सवाल: क्या सिर्फ मोटापे की वजह से कोई व्यक्ति गंभीर बीमारियों का शिकार हो सकता है? तो महोदय, दोनों प्रश्नों का उत्तर है – हाँ।

मोटापे की समस्या न सिर्फ मौत का कारण बन सकती है, बल्कि आपको कई गंभीर बीमारियों का शिकार भी बना सकती है। ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज की एक स्टडी के मुताबिक दुनियाभर में मोटापे की समस्या महामारी की तरह बढ़ती जा रही है। आलम यह है कि हर साल 40,000 से ज्यादा लोग मोटापे या अधिक वजन से मरते हैं।

क्याया मोटापा निर्धारित करने का सूत्र है
डॉ के अनुसार मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मिनिमल एक्सेस, बैरिएट्रिक एंड रोबोटिक सर्जरी, पटपड़गंज के प्रमुख विवेक बिंदल, बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) का उपयोग यह तय करने के लिए किया जाता है कि आपका स्वास्थ्य स्वस्थ है या आप मोटापे से पीड़ित हैं। आपका बीएमआई आपकी ऊंचाई और वजन के आधार पर निर्धारित किया जाता है।

यदि आपका बीएमआई 25 से नीचे है, तो आप अच्छे स्वास्थ्य में हैं। यदि आपका बीएमआई 25 से 30 के बीच है, तो आप अधिक वजन वाले हैं। आहार और जीवनशैली में सुधार करके इस वजन को ठीक किया जा सकता है। वहीं अगर आपका बॉडी मास इंडेक्स 30 से ज्यादा है तो आप मोटापे से प्रभावित हैं।

मोटापा भी हो सकता है संतानहीनता का कारण
डॉ के अनुसार कौसर शाह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, पटपड़गंज मैक्स अस्पताल के अनुसार, जीवनशैली से जुड़ा यह मोटापा मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, अनिद्रा, जोड़ों का दर्द, बांझपन आदि जैसी कई गंभीर समस्याएं भी पैदा कर सकता है।

अगर आपकी जीवनशैली और खान-पान में सुधार के बावजूद भी आपका वजन नियंत्रण में नहीं आता है तो आप इस गंभीर बीमारी से निजात पाने के लिए विशेषज्ञ डॉक्टरों की सलाह ले सकते हैं।

डॉक्टरों कौसर शाह की अत्यधिक विशिष्ट प्रक्रियाएं, न केवल रोगी को मोटापे और अनियंत्रित वजन से छुटकारा दिलाती हैं, बल्कि पूरे परिवार के लिए सकारात्मक बदलाव भी ला सकती हैं।

इस तरह की प्रक्रियाओं ने अनियंत्रित मोटापे और संबंधित बीमारियों से पीड़ित कई रोगियों की मदद की है। पिछले दिनों 450 पाउंड मनविंदर और 350 पाउंड मनप्रीत ने वजन बढ़ने और मोटापे की समस्या से छुटकारा पाया।

यह भी पढ़ें :–

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.