मोदी से मुलाकात के बाद ट्रम्प ने कहा कश्मीर एक द्विपक्षीय मामला

रांस में हो रहे जी 7 सम्मेलन के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई । इसमें कश्मीर के मसले पर भी चर्चा हुई । पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका से कश्मीर के मसले पर मध्यस्थता की उम्मीद कर रहे थे उनकी यह उम्मीद भी टूट गई क्योंकि इस द्विपक्षीय वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साफ कर दिया है कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मामला है और इस पर किसी और को कोई भी दखल देने की जरूरत नहीं है ।

मोदी ने साफ कर दिया है कि इस मामले में किसी तीसरे पक्ष की कोई जरूरत नहीं है । जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद से यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की पहली मुलाकात है । प्रधानमंत्री मोदी और ट्रम्प नेे मुलाकात के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए कहा की ‘भारत और पाकिस्तान के बीच सभी मुद्दे द्विपक्षीय है । हम इन मुद्दों के लिए किसी अन्य राष्ट्र को कष्ट नहीं देना चाहते हैं । मेरा मानना है कि भारत और पाकिस्तान जो 1947 से पहले एक राष्ट्र थे ।

हम सभी मुद्दों को हल कर सकते हैं’ । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा ‘भारत और पाकिस्तान के बीच कई द्विपक्षीय मुद्दे हैं इमरान खान के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने के बाद मैंने उन्हें बधाई देने के लिए फोन किया और उनसे कहा कि पाकिस्तान और भारत को मिलकर बीमारी, अशिक्षा और गरीबी से लड़ने की जरूरत है, अपने देश के कल्याण के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है, हम एक दूसरे के बीच विभिन्न द्विपक्षीय मुद्दों के बारे में बात करते रहे हैं । वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी कहा है कि ‘हमने भारत के प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत की है और मोदी ने कहा कि कश्मीर के मुद्दे पर उनका नियंत्रण है, मुझे उम्मीद है कि दोनों देश कुछ अच्छा करेंगे ।

वही द्विपक्षीय वार्ता के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने यह भी कहा कि ‘हमने व्यापार के बारे में बात की हमने कश्मीर और अन्य कई चीजों के बारे में बात की । हमने बहुत सारी चर्चाएं की है और मैंने भारत के बारे में बहुत कुछ सीखा’ ।
मालूम हो कि इसके पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर के मसले पर मध्यस्थता करने की बात कही थी लेकिन मोदी से मिलने के बाद उन्होंने कहा है कि भारत और पाकिस्तान दोनों कश्मीर के मसले को हल कर सकते हैं । जिससे साफ जाहिर होता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भी अपनी बातों से आश्वस्त कर दिया है कि वह कश्मीर के मसले को हल करने में सक्षम है और किसी तीसरे पक्ष को दखल देने की कोई जरूरत नहीं है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.