राजनीति के मैदान में अब ‘गेंदबाजी’ करेंगे हरभजन सिंह, ऐसा था इस दिग्गज क्रिकेटर का क्रिकेट करियर

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्पिन गेंदबाज हरभजन सिंह (हरभजन सिंह) राजनीतिक क्षेत्र से अपनी दूसरी पारी की शुरुआत करेंगे। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद से भज्जी के राजनीति में आने की चर्चा जोरों पर है।

आम आदमी पार्टी पंजाब से हरभजन सिंह राज्य सभा बुधवार को प्रत्याशी के रूप में मनोनीत और मुहर लगा दी। भज्जी ने अपने 23 साल के क्रिकेट करियर का अंत दिसंबर 2021 में किया। दो बार विश्व विजेता टीम का हिस्सा बने। उन्होंने कई फिल्मों में अभिनय भी किया है।

सेवानिवृत्ति के बाद हरभजन सिंह का नवजोत सिंह सिद्धू  के साथ एक तस्वीर वायरल हुई, जिससे अफवाहें उड़ीं कि वह कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। 41 साल के हरभजन का क्रिकेट करियर काफी अच्छा रहा है। उन्होंने अकेले दम पर कई खेलों में भारत को जीत दिलाई है। क्रिकेट के अलावा, हरभजन ने अभिनय में भी काम किया है। पिछले साल हरभजन ने तमिल फिल्म फ्रेंडशिप में अभिनय किया था।

मार्च 1998 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले हरभजन सिंह सबसे लंबे क्रिकेट प्रारूप में 400 या उससे अधिक विकेट लेने वाले चौथे भारतीय गेंदबाज हैं। अजीबोगरीब बात करें तो वह तीसरे स्थान पर हैं। भज्जी से पहले अनिल कुंबले, आर अश्विन और (आर अश्विन) कपिल देव का नंबर आता है।

कुंबले ने 132 टेस्ट मैचों में 619 विकेट लिए जबकि अश्विन ने 86 टेस्ट मैचों में 442 विकेट लिए। महान कपिल देव के नाम 131 टेस्ट मैचों में 434 विकेट हैं जबकि हरभजन के 103 टेस्ट में 417 विकेट हैं। उनके नाम पर 25 गुना 5 गेट हॉल और 16 गुना 4 गेट हॉल बनाए गए। हरभजन के नाम कुल 711 अंतरराष्ट्रीय विकेट हैं।

एकदिवसीय मैचों में भज्जी के 269 विकेट हैं।
अप्रैल 1998 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे में पदार्पण करने वाले हरभजन सिंह ने 236 मैचों में 269 विकेट हासिल किए हैं। भज्जी ने इस दौरान तीन 5 विकेट और दो 4 विकेट जीते हैं। हरभजन के नाम 28 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 25 विकेट हैं जबकि स्पिनर ने 198 प्रथम श्रेणी मैचों में 780 विकेट लिए हैं।

यह भी पढ़ें :–

गोवा, यूपी, मणिपुर और उत्तराखंड में सरकार बनाने में देरी के पीछे क्या कारण हैं, जानिए दिलचस्प कारण

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.