विटामिन डी की कमी: शरीर में हड्डियों, मांसपेशियों और दांतों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए विटामिन डी महत्वपूर्ण है। विटामिन डी शरीर में कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने का काम भी करता है।

विटामिन डी की कमी हो सकती है आपके थकान और चिड़चिड़ापन का कारण, करें इन चीजों का सेवन

विटामिन डी की कमी: शरीर में हड्डियों, मांसपेशियों और दांतों को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए विटामिन डी महत्वपूर्ण है। विटामिन डी शरीर में कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने का काम भी करता है।

आजकल शहरी जीवनशैली में विटामिन डी की कमी बढ़ती जा रही है। लोग धूप में जाने से बचते हैं, ऐसे में शरीर को प्राकृतिक रूप से विटामिन डी नहीं मिल पाता है।

भारत में आधे से ज्यादा लोगों में विटामिन डी की कमी है। बहुत से लोगों को विटामिन डी की कमी के लक्षण भी नहीं पता होते हैं। आज हम आपको विटामिन डी की कमी से होने वाले 5 लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आपके शरीर में है विटामिन डी की कमी, तो खा सकते हैं ये 5 फूड्स

विटामिन डी की कमी के लक्षण

1- दिन भर थकान महसूस होना- शरीर में विटामिन डी की कमी के कारण आप हर समय थकान महसूस करते हैं। यह विटामिन डी की कमी का सबसे बड़ा संकेत है। यदि आपका आहार सही है और नींद पूरी हो जाती है, तो उसके बाद कमजोरी और थकान भी होती है, तो यह विटामिन डी की कमी के कारण होता है। रक्त परीक्षण के बाद, आप यह निर्धारित कर सकते हैं कि शरीर में विटामिन की कमी है या नहीं।

2- हड्डियों और पीठ में दर्द हड्डियों, मांसपेशियों और दांतों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है। हालांकि, जब शरीर में विटामिन डी की कमी होती है, तो कैल्शियम शरीर द्वारा अवशोषित नहीं होता है। शरीर को कैल्शियम को ठीक से अवशोषित करने के लिए विटामिन डी की आवश्यकता होती है। ऐसे में आप चाहे कितना भी कैल्शियम का सेवन कर लें, आपकी हड्डियों और पीठ को दर्द होगा। हड्डियों का दर्द विटामिन डी की कमी का संकेत है।

3- चोट और जल्दी ठीक होने में लगने वाला समय- यदि आप अपने शरीर में विटामिन डी की कमी के कारण खुद को कहीं चोटिल कर लेते हैं, तो यह जल्दी ठीक नहीं होगा। अगर घाव देर से भरता है या चोट नहीं भरती है, तो यह शरीर में विटामिन डी की कमी का संकेत भी हो सकता है। विटामिन डी शरीर में सूजन, जलन और संक्रमण को रोकने में मदद करता है।

4- डिप्रेशन और खराब मूड- यदि आप हर समय चिंतित या उदास महसूस करते हैं, तो यह विटामिन डी की कमी का संकेत हो सकता है। अगर बोलते समय आपका मूड खराब होता है, तो हो सकता है कि खून में विटामिन डी की कमी हो। अक्सर घर में धूप न होने पर भी डिप्रेशन रहता है। मूड को फ्रेश और खुश रखने के लिए नियमित रूप से कुछ समय धूप में बिताएं, सुबह की तेज धूप में खुलकर सांस लें।

5- बालों का झड़ना कभी-कभी विटामिन डी की कमी के कारण अत्यधिक बाल झड़ते हैं। अक्सर हम सोचते हैं कि बालों का झड़ना या बालों का झड़ना केमिकल प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से होता है, लेकिन विटामिन की कमी से भी ऐसा हो सकता है। विटामिन डी की कमी से बहुत से बाल झड़ते हैं। विटामिन डी वह पोषक तत्व है जो बालों के रोम को बढ़ाता है। शरीर में विटामिन डी की कमी के साथ बालों का अत्यधिक झड़ना शुरू हो जाता है।

विटामिन डी की कमी को दूर करने के लिए इन चीजों को अपनी डाइट में करें शामिल

1- सामन मछली सामन मछली विटामिन डी का एक उत्कृष्ट स्रोत है। यह ओमेगा -3 फैटी एसिड में समृद्ध है। 100 ग्राम सालमन मछली में लगभग 66 प्रतिशत विटामिन डी होता है। अगर आप शाकाहारी नहीं हैं, तो सैल्मन मछली खाने से आपको अपने विटामिन डी की कमी को दूर करने में मदद मिल सकती है।

2- अंडा अंडे में कई पोषक तत्व होते हैं। अंडा उन लोगों के लिए भी विटामिन डी का अच्छा स्रोत है जो सब्जियां नहीं खाते हैं। अंडे के सफेद हिस्से में प्रोटीन होता है और पीले हिस्से में यानी जर्दी में फैट, विटामिन और मिनरल्स होते हैं। अगर आप 1 अंडा खाते हैं तो आपको 5 प्रतिशत विटामिन डी मिलता है।

3- संतरे का रस संतरे का जूस पीने से कई फायदे होते हैं। संतरे के जूस में भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है। संतरे का जूस भी विटामिन डी का अच्छा स्रोत है। नियमित रूप से संतरे का जूस पीने से शरीर में विटामिन डी की कमी को दूर किया जा सकता है। पैकेज्ड जूस के बजाय ताजा, घर का बना संतरे का जूस पीने की कोशिश करें।

4- गाय का दूध दूध में भी विटामिन डी पाया जाता है, लेकिन जब आप गाय का दूध पीते हैं तो इससे शरीर को अधिक विटामिन डी मिलता है। हालांकि, आपको कम वसा वाले गाय के दूध के बजाय पूरा दूध पीना चाहिए। दूध शरीर को कैल्शियम और विटामिन डी प्रदान करता है।

5- पनीर खाएं कुछ लोग दूध नहीं पीते हैं, ऐसे में आप क्वार्क का सेवन कर विटामिन डी की कमी को पूरा कर सकते हैं। दही विटामिन डी से भरपूर होता है। अगर आप रोज पनीर नहीं खाना चाहते हैं तो आप लस्सी या छाछ भी पी सकते हैं। पनीर खाने से आपके पेट और आंतों को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है।

 

यह भी पढ़ें :–

ऐसे करें सर्दी के मौसम में चने का सेवन, बाबा रामदेव ने कहा; ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखता है

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.