वैज्ञानिकों ने बनाया इंसानी नाखून से भी दस लाख गुना पतला सोना

वैज्ञानिकों ने इंसानी नाखून से भी दस लाख गुना पतला सोना तैयार किया है यह दुनिया का सबसे पतला सोना कहा जा रहा है इस सोने का प्रयोग चिकित्सा उपकरणों और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में खासतौर से प्रयोग किया जाएगा यह सोना केवल दो अणुओं के परत के बराबर है ब्रिटेन के यूनिवर्सिटी ऑफ लिड्स के अनुसार अनुसंधानकर्ताओं ने इस सोने की मोटाई 0.47 नैनोमीटर माफी है यह 2ड़ी है और  एक के ऊपर एक अणु को रखकर कर बनाया गया है

इस सोने का प्रयोग कैंसर के इलाज में भी किया जा सकेगा वैज्ञानिकों के अनुसार इससे चिकित्सीय उपकरणों और इलेक्ट्रॉनिक उद्योग में नए प्रयोग के तौर पर इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा और साथ ही इसका इस्तेमा रासायनिक प्रक्रिया में उत्प्रेरक के रूप में भी किया जा सकता है क्योंकि प्रयोगशाला में हुए परीक्षणों से यह ज्ञात हुआ है कि वर्तमान में इस्तेमाल होने वाले स्वर्ण नैनो कणों की तुलना में यह बारीक सोने की परत अधिक प्रभावकारी उत्प्रेरक के रूप में कार्य करता है यूनिवर्सिटी ऑफ लिड्स के वैज्ञानिक का मानना है कि यह एक ऐतिहासिक उपलब्धि है

सोना बहुत ही लचीली धातु है और यह एक मात्र ऐसी धातु है जिसका रंग पीला होता है अब तक का सबसे बड़ा कच्चे सोने का टुकड़ा ऑस्ट्रेलिया में खोजा गया था  इसे 1869 में खोजा गया था और इसेवेलकम स्ट्रेंजरनाम नाम दिया गया था यह जमीन से मात्र 2 इंच नीचे पाया गया था और इस टुकड़े से लगभग 71 किलो सोना प्राप्त हुआ था एक अध्ययन के मुताबिक अभी भी पृथ्वी के कुल सोने का 80 फ़ीसदी हिस्सा जमीन के अंदर है सोना इतना लचीला होता है कि मात्र 28 ग्राम सोने से 8 किलोमीटर लंबी एक बहुत ही बारीक तार बनाया जा सकता है

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.