संयुक्त राष्ट्र ने नियंत्रण रेखा पर संयम बरतने को बोला

एक तरफ जहां जम्मू कश्मीर को विशेष सुविधाएँ प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A  को समाप्त करने वाले  बिल को लोकसभा में पेश किया गया है  और हाल में जम्मू कश्मीर में हलचल के बढ गई है वही दूसरी तरफ पाकिस्तान की बेचैनी भी बढ़ गई है जम्मू कश्मीर में हलचल बढ़ जाने के बाद भारतपाकिस्तान के बीच एक तनाव की स्थिति जैसे बन रही है

इस पर संयुक्त राष्ट्र के सैन्य पर्यवेक्षक समूह ने एक रिपोर्ट में कहा दोनों देशों को नियंत्रण रेखा पर शांति बनाए रखना चाहिए संयुक्त राष्ट्र के महासचिव के प्रवक्ता  ने एक बयान में बताया कि संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक समूह की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान दोनों देशों को नियंत्रण रेखा पर संयम बरतना चाहिए दोनों देशों की  सैन्य गतिविधियों में वृद्धि हुई है

मालूम  हो कि जम्मू कश्मीर में भारत और पाकिस्तान के बीच संघर्ष विराम की निगरानी करने के लिए 1949 में संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों को तैनात किया गया था लेकिन एलओसी पर संयुक्त राष्ट्र पर्यवेक्षकों को निगरानी करने की अनुमति भारत सरकार नहीं देती है लेकिन पाकिस्तान इसकी अनुमति देता है वहीं भारत पाक सीमा पर बढ़ते तनाव के मद्देनज़र पाकिस्तानी संसदीय समिति की आज एक अहम बैठक बुलाई है जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा किए जाने की संभावना है स्थिति के मद्देनजर जम्मू कश्मीर में महबूबा मुफ्ती उमर उमर अब्दुल्ला जैसे नेताओं को उनके घरों में नजरबंद कर दिया गया था और जम्मू कश्मीर के कई क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी है इसके साथ साथ इंटरनेट सेवाओं सहित कई संचार सुविधाओं में कटौती की गई है हालांकि ऐसा सुरक्षा के मद्देनजर फैसला लिया गया

अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A  को समाप्त करने संबंधी संशोधन बिल राज्यसभा में पास हो गया है और गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि जैसे ही स्थितियां सामान्य हो जाती हैं ,जम्मू कश्मीर को पूर्ण राज्य का दर्जा दे दिया जाएगा I  जम्मू कश्मीर और लद्दाख को दो अलग अलग केंद्र शासित राज्य बना दिया जाए

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.