संविधान लागू करने के लिए 26 जनवरी का दिन ही क्यों चुना गया

संविधान लागू करने के लिए 26 जनवरी का दिन ही क्यों चुना गया, जानिए इसकी दिलचस्प कहानी

26 जनवरी को राष्ट्रीय स्तर पर हर साल गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस साल देश अपना 74वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। हर साल की तरह इस बार भी यह राष्ट्रीय पर्व काफी उत्साह और धूमधाम से मनाया जाएगा।

लोग तिरंगा फहराने के अलावा 26 जनवरी को परेड का आनंद भी लेते हैं। हर बार जब गणतंत्र दिवस आता है, तो बहुत से लोग सोचते होंगे कि गणतंत्र दिवस केवल 26 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है।

अगर आपके मन में भी यह सवाल आता है तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि देश को गणतंत्र घोषित करने के लिए 26 जनवरी की तारीख क्यों चुनी गई। तो आइए जानते हैं इसके पीछे की दिलचस्प कहानी के बारे में –

26 जनवरी तक संविधान लागू क्यों नहीं हुआ

हम सभी जानते हैं कि गणतंत्र दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। 1950 में, भारत को एक गणतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया था। इस अवसर पर हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

यह दिन भारतीय नागरिकों की लोकतांत्रिक रूप से अपनी सरकार चुनने की शक्ति का प्रतीक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि संविधान लागू करने की तारीख 26 जनवरी ही क्यों चुनी गई? उस दिन संविधान लागू करने के पीछे एक खास मकसद था जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग वाकिफ होंगे।

इसी दिन पूर्व स्वतंत्रता दिवस मनाया गया था

दरअसल, 15 अगस्त, 1947 को भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी। लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि आजादी से पहले स्वतंत्रता दिवस 26 जनवरी को ही मनाया जाता था। 31 दिसंबर, 1929 को जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में लाहौर में कांग्रेस के अधिवेशन में एक प्रस्ताव पारित किया गया था।

इस प्रस्ताव की आवश्यकता थी कि यदि ब्रिटिश सरकार ने 26 जनवरी, 1930 तक भारत को डोमिनियन राज्य का दर्जा नहीं दिया, तो भारत को पूरी तरह से स्वतंत्र घोषित कर दिया जाएगा। उसके बाद 26 जनवरी 1930 को पहली बार स्वतंत्रता दिवस मनाया गया और इस दिन जवाहरलाल नेहरू ने तिरंगा फहराया था।

पहला गणतंत्र दिवस 1950 में मनाया गया था

हालांकि, बाद में 1947 में आजादी के बाद 15 अगस्त को आधिकारिक तौर पर स्वतंत्रता दिवस घोषित कर दिया गया। जबकि 26 जनवरी, 1930 को संविधान के क्रियान्वयन के लिए 26 जनवरी की तिथि को केवल इस तिथि को अर्थ देने के लिए चुना गया था, जब पूर्ण स्वतंत्रता का निर्णय प्रभावी हुआ।

26 नवंबर 1949 को भारत का संविधान पूरी तरह तैयार हो गया था। लेकिन 26 जनवरी के महत्व को देखते हुए उस दिन 1950 में संविधान लागू हुआ और देश को पूर्ण गणतंत्र घोषित किया गया। उस वर्ष स्वतंत्र भारत ने पहली बार अपना गणतंत्र दिवस मनाया और तब से आज तक हर वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *