सर्दियों में स्ट्रोक और दिल के दौरे को रोकें; 20 मिनट सूरज की रोशनी, भोजन में 30% प्रोटीन लें और दिन में 40 मिनट व्यायाम करें

सर्दियों को सेहत का मौसम माना जाता है, लेकिन कई मामलों में यह शरीर के लिए हानिकारक भी हो सकता है। ज्यादा ठंड से दिल पर दबाव बढ़ जाता है। रक्त वाहिकाएं सिकुड़ जाती हैं। इससे स्ट्रोक और दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है, साथ ही रक्तचाप भी बढ़ जाता है।

यूरोपियन जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी के अनुसार, अधिक वजन वाले, धूम्रपान करने वाले या उच्च रक्तचाप वाले लोगों में स्ट्रोक और दिल के दौरे का खतरा 30 प्रतिशत अधिक होता है। अमेरिकी एजेंसी सीडीसी के मुताबिक लगातार हाई ब्लड प्रेशर से न सिर्फ दिल को नुकसान हो सकता है, बल्कि स्ट्रोक का खतरा भी बढ़ सकता है।

सर्दी ने फिर दस्तक दे दी है। डॉ से सीखें। केके पांडे, सीनियर वैस्कुलर और कार्डियो थोरैसिक सर्जन, इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल, इस सीजन में स्ट्रोक और हृदय रोग के मामलों को कैसे कम करें …

सर्दियों में बढ़ जाते हैं ये खतरे

1- बढ़ा हुआ रक्तचाप
मेयो क्लिनिक के अनुसार, सर्दियों में रक्त वाहिकाएं संकरी हो जाती हैं, जो इन संकुचित वाहिकाओं के माध्यम से रक्त के प्रवाह की अनुमति देने के लिए उन पर अधिक दबाव डालती हैं। यह दबाव रक्तचाप को बढ़ाता है।

2- स्ट्रोक का ज्यादा खतरा
अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के अनुसार, अत्यधिक ठंड में रक्त गाढ़ा और चिपचिपा हो जाता है, जिससे थक्का बनना आसान हो जाता है। अधिकांश स्ट्रोक रक्त के थक्के के कारण होते हैं। यह थक्का मस्तिष्क को रक्त वाहिकाओं के मार्ग में भी बाधा डालता है।

3- दिल का दौरा पड़ने की स्थिति
न्यूयॉर्क के माउंट सिनाई स्थित आइकॉन स्कूल ऑफ मेडिसिन के अनुसार, सर्दियों में सर्दी और फ्लू से बचाव के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली का रक्त स्तर कई गुना बढ़ जाता है। इससे धमनियों की दीवारों पर प्लाक बनने लगता है। इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

सर्दियों में स्ट्रोक और दिल के दौरे से बचने के लिए 20:30:40 फॉर्मूले का पालन करें

20 मिनट की धूप: बीमारियों से लड़ने के लिए बड़ी मात्रा में एंटीबॉडी बनते हैं
सीडीसी के अनुसार, प्रतिरक्षा प्रणाली बैक्टीरिया या वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी बनाती है। सूर्य के प्रकाश के कारण शरीर इस एंटीबॉडी का अधिक उत्पादन करने लगता है। इसके अलावा, सूरज की रोशनी सूजन और उच्च रक्तचाप को भी कम करती है। मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को बढ़ाता है। इसलिए दिन में 20 मिनट सुबह की धूप में बैठें।

30 प्रतिशत प्रोटीन: सर्दियों में भूख कम करता है, वजन बढ़ने से रोकता है
जब शरीर सूरज की रोशनी के संपर्क में आता है, तो सेरोटोनिन हार्मोन निकलता है, जो मूड को बेहतर बनाता है। यह हार्मोन कार्बोहाइड्रेट भी रिलीज करता है। सर्दियों में सूर्य के प्रकाश की तीव्रता कम होती है। ऐसे में भूख का अहसास इसलिए ज्यादा होता है। प्रोटीन भूख बढ़ाने वाले हार्मोन ग्रेलिन को कम करता है। जब भोजन में ली जाने वाली 30 से 35 प्रतिशत कैलोरी प्रोटीन से आती है, तो भूख कम हो जाती है। इससे वजन बढ़ने की संभावना कम हो जाएगी।

40 मिनट की ट्रेनिंग: ब्लड प्रेशर और स्ट्रोक का खतरा 27% कम
सर्दियों में, दिन में 40 मिनट का व्यायाम उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक के जोखिम को 27% तक कम कर देता है। इंस्टीट्यूट ऑफ साइकियाट्री, साइकोलॉजी और न्यूरोसाइंस के अनुसार, जो लोग दिन में 30 से 40 मिनट व्यायाम करते हैं, उनमें अवसाद का खतरा 28% कम होता है।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.