सुषमा स्वराज अब हमारे बिच नहीं रही

शीला दीक्षित के बाद अब दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार की रात को निधन हो गया मंगलवार की रात उनके सीने दर्द की शिकायत के बाद उनको दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था अपने निधन से कुछ घंटे पहले उन्होंने ट्वीटर पर जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने वाले विधेयक के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देते हुए लिखा थाप्रधानमंत्री जी आप का हार्दिक अभिनंदन, मैं अपने जीवन मे इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थीऔर फिर कुछ घंटों बाद उन्होंने बेचैनी और सीने में दर्द की बात कही और उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था जहाँ उनकी मृत्यु हो गई

सुषमा स्वराज भारत की पहली महिला पूर्णकालिक विदेश मंत्री थी और वो दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री रह चुकी थी इस लोकसभा चुनाव में उन्होंने चुनाव नही लड़ा था और स्वास्थ्य कारणों के चलते राजनीति से थोड़ा दूरी बना ली थी सुषमा स्वराज सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहती थी और अपने विदेश मंत्री होने के दौरान उन्होंने ट्विटर के माध्यम से विदेशों में फसे भारतीयों की कई बार मदद की थी सुषमा स्वराज को एक अच्छी वक्ता और कुशल राजनेता के तौर से भी जाना जाता है सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में हरियाणा सरकार की कैबिनेट मंत्री भी रह चुकी है सुषमा स्वराज राजनीति में आने से पहले दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट में अपने पति के साथ महज 20 वर्ष की उम्र में वकालत करने लगी थी

सुषमा स्वराज 1977 में पहली बार विधान सभा का चुनाव जीत कर हरियाणा की विधानसभा में पहुँची थी और उन्हें श्रम मंत्री बनाया गया था। 21 दिसंबर 2009 को सुषमा स्वराज पहली महिला विपक्ष की नेता चुनी गई थी और 2014 को मोदी सरकार में पहली महिला विदेश मंत्री बनी थी सुषमा स्वराज अपने विदेश मंत्री के कार्यकाल के दौरान हमेशा अप्रवासी भारतीयों की मदद कर एक मिसाल कायम की थी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में वो सूचना एवं प्रसारण मंत्री बनी थी इसी दौरान उन्होंने फ़िल्म निर्माण को उद्योग का दर्जा दिया था सुषमा को उनकी हाजिर जवाबी के लिए भी जाना जाता है सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए भाजपा मुख्यालय ले जाया गया है और अंतिम संस्कार दिल्ली के लोधी रोड स्थित शमशान घाट पर शाम तीन बजे के बाद किया जाएगा

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.