अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच कूटनीतिक संघर्ष

आइए जानते हैं क्यों बढ़ सकता है अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच कूटनीतिक संघर्ष

उत्तर कोरिया का अमेरिका के साथ स्थागित परमाणु वार्ता मियाद पूरी हो जाने के बाद किम जोंग उन ने सख्त तेवर अपनाए है । उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने अमेरिका को चेतावनी दी है और कहा है कि जल्द ही उत्तर कोरिया अपनी सामरिक जरूरत के हिसाब से हथियार विकसित करेगा । किम जोंग उन के इस बयान के बाद फिर से अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच कूटनीतिक संघर्ष बढ़ सकता है और तनाव के बढ़ जाने की आशंका है ।

आइए जानते हैं आखिर क्यों ऐसी स्थिति उत्पन्न हुई उत्तर कोरिया के किम जोंग उन का यह बयान ऐसे समय में आया है जब अमेरिका के विदेश मंत्री माइकल पोम्पिन ने उत्तर कोरिया के साथ स्थगित परमाणु वार्ता को एक सकारात्मक पहल कहा है, इससे उम्मीद थी कि दोनों देशों के बीच सामान्य संबंधों को बहाल किया जा सकता है ।

लेकिन अमेरिका के विदेश मंत्री माइकल पोम्पिन के बयान की 48 घंटे बाद ही उत्तर कोरिया के किम जोंग उन का यह बयान सामने आया है । हालांकि किम की इस बात पर अभी अमेरिका ने आधिकारिक तौर पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है । अब यह देखनाकाफी दिलचस्प होगा कि अमेरिका आगे की क्या रणनीति बनाता है ।

दूसरी तरफ किम जोंग उन ने संकेत दिया है कि उत्तर कोरिया परमाणु हथियारों और अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइलों का परीक्षण जारी रखेगा और वह अमेरिका की किसी बात को मानने के लिए बाध्य नहीं है । उन का कहना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के साथ वार्ताओं को एक कूटनीतिक जीत के रूप में पेश किया और वे उसका लाभ राजनीतिक रूप से लेना चाहते हैं ।

किम जोंग उन ने अपना इरादा साफ कर दिया है कि वह किसी भी दबाव में आने वाली नहीं है और स्थगित परमाणु वार्ता पर छोटी दूरी के हथियारों का परीक्षण उत्तरी कोरिया द्वारा किया गया ।

उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन का कहना है कि उत्तर कोरिया परमाणु कार्यक्रम विकसित करना जारी रखेगा और आने वाले भविष्य में रणनीतिक हथियार पेश करेगा और इसके पहले डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था उत्तर कोरिया के किम जोंग उन के साथ उन्होंने बातचीत कर ली है और उनका साथ मिला है और वह जो भी कहेंगे हम जो भी कहेंगे । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने परमाणुकरण के बारे में किम जोंग से समझौते पर हस्ताक्षर करने की बात कह रहे थे ।

यह समझाता सिंगापुर में किया गया था और उन्होंने किम जोंग उन को अपने शब्दों पर बना रहने वाला आदमी कहा है । लेकिन अब उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने एलान कर दिया है कि प्योगयांग अपने परमाणु हथियारोंऔर अंतर महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षणों पर लगी रोक को हटा रहा है । सूत्रों से मिली जानकारी में कहा गया है कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन का मानना है कि एक तरफा प्रतिबद्धता निभाते रहने का कोई आधार नहीं है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.