मां का दूध पी कर 23 दिन का बच्चा कोरोना की जंग जीता

बिना दवा सिर्फ मां का दूध पी कर 23 दिन का बच्चा कोरोना की जंग जीता

कहते है माँ का दूध अमृत होता है और वाकई यह फिर से एक बार साबित हो गया है । एक 23 दिन के मासूम बच्चे ने फिर मां का दूध पी कर कोरोना वायरस से जंग जीत ली है । इससे साबित होता है मां का दूध बच्चे को हर बीमारी से बचने में सक्षम है । एक बच्चा सिर्फ मां का दूध पी कर बिना किसी दवा के 15 दिन में कोरोना वायरस जैसी जानलेवा बीमारी से ठीक हो चुका है ।

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले की यह घटना है । यह बच्चा कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाला सबसे कम उम्र का मरीज है । अब इस बच्चे को एस एन अस्पताल से छुट्टी भी मिल गई और घर पर है अब यह बच्चा 38 दिन का हो गया है और अब पूरी तरह से स्वास्थ्य है ।

आगरा के ताज गंज के निवासी मोहम्मद आरिफ के बेटे साद को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुस्टि  20 मार्च को हुई थी तब उसकी उम्र मात्र 23 दिन थी । आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज में इस बच्चे को आइसोलेशन वार्ड में भारती कर दिया था ।

यह भी पढ़ें : — आइये जाने कैसे होता है कोरोना के मरीजों का इलाज

यह बच्चा कम दिन का होने की वजह से चिकित्सकों के लिए काफी खास था और इसके लिए डॉक्टर की निगरानी में बच्चे को उसकी मां के साथ ही आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था और उसकी मां पीपीआई किट पहनकर बच्चे के साथ में रह रही थी क्योंकि उसकी मां को कोरोना वायरस नहीं हुआ था और सिर्फ बच्चे को कोरोना वायरस संक्रमण हुआ था।

क्योंकि बच्चों में कोरोना वायरस का कोई लक्षण नहीं थे लेकिन रिपोर्ट पॉजिटिव थी इस वजह से डॉक्टर भी उलझन में थे कि बच्चे का इलाज किस प्रकार से किया जाए और उसे किस प्रकार की दवा दिया जाए ।

डॉक्टर ने बच्चे की मां का विशेष ख्याल रखा जिससे कि उन्हें संक्रमण न हो पाए और उनके खाने-पीने का भी ध्यान रखा गया उन्हें ताजे फल, हरी सब्जी, सलाद, दूध जैसे पौष्टिक भोजन दिए गए और दिन भर में बच्चे को अपनी मां का 5 से 7 बार दूध पिलाया गया । डॉक्टर को हैरानी हुई जब 15 दिन के बाद बच्चे के दोनों रिपोर्ट नेगेटिव आ गई । डॉक्टरों के अनुसार किसी भी मरीज में अब तक का यह सबसे तेजी से सुधार देखा गया है ।

बच्चे की मां का कहना है कि उन्हें जब अपने बच्चों में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की जानकारी मिली तो बेहद परेशान हो गई थी और उसे हमेशा अपने से चिपकाए रखती थी, समय-समय पर डॉक्टर और नर्स उनके वार्ड में उनका हालचाल जाने के लिए और बच्चे की सेहत की निगरानी के लिए आते थे । डॉक्टर के द्वारा दिए निर्देश के अनुसार ही बेहद सावधानी के साथ मां अपने बच्चे को दूध पिलाया करती थी । नतीजा कोरोना वायरस मां की ममता और मां की दूर से हार गया ।

यह भी पढ़ें : — माँ का दूध बच्चे के लिए सर्वोत्तम आहार

दरअसल बच्चे के पिता मोहम्मद  ने बताया कि उनके परिवार में उनके चाचा को कोरोना वायरस हुआ था इसी की वजह से उन्होंने अपने बच्चे की जांच करवाई और बच्चे की भी जांच करवाएं । उनकी रिपोर्ट तो नेगेटिव आई थी लेकिन उनके बच्चे की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी और वह उस समय मात्र 23 दिन का था जिस वजह से सब लोग काफी परेशान हो गए थे ।

लेकिन मां के दूध और डॉक्टरों की निगरानी की वजह से अब बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ है । वही एसएन मेडिकल कॉलेज के के प्रभारी अनिल प्रताप सिंह का कहना है कि उन्होंने अब तक सबसे कम उम्र के बच्चे को कोरोनावायरस से संक्रमित मरीज देखा है ।

बच्चे के इलाके के लिए उसकी मां का विशेष ध्यान रखा गया और उन्हें पौष्टिक भोजन दिया गया जिससे कि वे ज्यादा से ज्यादा अपने बच्चे को दूध पिला सके और उसकी मां का दूध ही उसके लिए दवा बना और वह अब कोरोना वायरस से पूरी तरीके से ठीक है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.