वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने पढ़ा सबसे लंबा बजट भाषण, बजट में कई घोषणा

31 जनवरी को भारतीय अर्थव्यवस्था की आर्थिक समीक्षा आने के बाद आज 1 फरवरी को भारत सरकार के वित्तमंत्री ने भारतीय अर्थव्यवस्था के वित्त वर्ष 2020 -21 का आम बजट पेश कर दिया गया है । मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के दौरान दूसरा बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में पेश किया । इस दौरान एक अनोखा रिकॉर्ड वित्त मंत्री के नाम दर्ज हुआ । वित्त वर्ष 2020-21 के बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2 घंटे से ज्यादा देर तक लगातार खड़े होकर भाषण दिया ।

वित्तमंत्री ने बजट भाषण 11बजे से पढ़ना शुरू हुआ जो 1:43 पर समाप्त हुआ । लगभग पौने 3 घंटे तक लगातार खड़े होकर वित्त मंत्री ने बजट भाषण दिया और लास्ट के दो पन्ने स्वास्थ्य कारणों से नहीं पढे, लेकिन इसके लिए उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष से इसकी अनुमति भी ली ।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला की अनुमति के बाद निर्मला सीतारमण का बजट भाषण पूरा पढ़ा हुआ मान लिया गया और उसे सदन के पटल पर रख दिया गया । इसी के साथ आज के बजट भाषण को समय के हिसाब से अब तक का सबसे लंबा बजट भाषण कहा गया है । इसके पहले अटल बिहारी वाजपेई की सरकार के दौरान वित्त मंत्री रहे जसवंत सिंह ने 2003 में अब तक का सबसे लंबा बजट भाषण पढ़ा था ।वित्त वर्ष 2020-21 के बजट भाषण में बहुत कुछ खास है ।

बजट को देखकर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि भारत आर्थिक विकास की रफ्तार को तेज करने की कोशिश कर रहा है । वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में कई घोषणाएं की है जिसमें टैक्स स्लैब में बदलाव करने, बैंक डिपॉजिट पर ऐलान, देश में प्रीपेड मीटर लगाने, 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने, रेलवे में ऐलान और हेल्थ सेक्टर के क्षेत्र में तथा शिक्षा के क्षेत्र में भी कई सारे घोषणाओं का ऐलान किया है ।

वित्त मंत्री ने महिलाओं से जुड़ी योजनाओं पर भी 28600 करोड़ रुपए खर्च करने की बात कही । साथ ही देश में डाटा सेंटर पार्क बनाए जाने की घोषणा की है जिससे आंगनवाड़ी, डाकघर, पुलिस स्टेशन, ग्राम पंचायतों को डिजिटल कनेक्टिविटी में सुविधा होगी । वित्त मंत्री ने बजट भाषण में नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी को भी गठन करने की बात कही है जो नान गजटेड पदों पर कंप्यूटराइज परीक्षा कराएंगा और हर जिले में इस एजेंसी द्वारा परीक्षा केंद्र की स्थापना की जाएगी ।

इस बजट में मोदी सरकार ने सब लोगों को खुश करने वाला और अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए पूरी कोशिश की है । इसके लिए बीमा क्षेत्र में भी विनिवेश करने की घोषणा की गई है ।

बजट में यह भी घोषणा की गई है कि सरकार जीरो बजट फार्मिंग को बढ़ावा देगी जिससे फ़र्टिलाइज़र की खपत बढ़ेगी लेकिन इससे राष्ट्रीय केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स जैसी कंपनी को इससे झटका लग सकता है । वित्त मंत्री ने बजट में लगभग डेढ़ सौ ट्रेनों को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) के तहत चलाने का ऐलान किया है और कई सारे पर्यटन स्थलों को रेलवे से जोड़े जाने की बात कही गई है इसके लिए आने वाले दिनों में बड़े पैमाने पर तेजस एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई जाएंगी ।

इस बजट से यह भी इशारा मिलता है कि ट्रेनों में भी निजी एजेंसी निवेश कर सकेंगे और सरकार में भागीदारी निभा सकेंगे ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.