भारत में आधी से अधिक आबादी में कोरोना वायरस फैलने का खतरा

भारत में आधी से अधिक आबादी में कोरोना वायरस फैलने का खतरा

चीन के बाद भारत दुनिया में सबसे बड़ी आबादी वाला दूसरा देश है । ऐसे में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण की वजह से दुनिया की निगाह भारत पर है क्योंकि भारत में भी कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है । भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जनता से अपील कर रहे हैं कि लोग सतर्क हो जाएं और बिना वजह इधर-उधर न जाए ।

मालूम हो कि भारत में कोरोना वायरस फिलहाल दूसरे चरण में चल रहा है और अब तक भारत में 200 से ज्यादा लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण पाए गए हैं । ऐसे में भारत के लिए यह काफी चिंताजनक हो जाएगा अगर कोरोना वायरस अपने तीसरे चरण में पहुंच जाता है । वहीं दुनियाभर के तमाम संस्थाओं ने कोरोनावायरस को रोकने के लिए भारत सरकार के किए गए प्रयासों की सराहना की है ।

लेकिन भारत की स्थिति काफी चिंताजनक है । अमेरिका के वाशिंगटन में स्थित एक शोध केंद्र ने इस बात की आशंका व्यक्त की है कि भारत में इस वायरस का संक्रमण आधी से ज्यादा आबादी को संक्रमित कर सकता है ।

इस शोध को करने वाली संस्था ने यह भी कहा है कि ज्यादातर युवा लोगों को भी कोरोना वायरस का सामान संक्रमण होने की संभावना है और यह आसानी से ठीक भी हो जाएगा, बशर्ते कि लोग सजग रहें और खुद को आइसोलेट करके इस स्थिति को रोकने की कोशिश करें ।

रामानंद लक्ष्मीनारायण यूके प्रेस्टन यूनिवर्सिटी के लेक्चरर हैं तथा वाशिंगटन में स्थित सेंटर फॉर डिजीज डायनॉमिक्स इकोनॉमिक्स एंड पॉलिसी के निदेशक है, उन्होंने कहा है कि अमेरिका ने खुद का आकलन किया है कि अमेरिका की कुल जनसंख्या का 20 से 60 फीसदी तक की जनसंख्या वायरस से संक्रमित हो सकती है ।

ऐसे में यदि यह अनुमान भारत के लिए लगाया जाए तो यह काफी बड़ा आंकड़ा होगा और यह काफी चिंताजनक होगा लेकिन भारत सरकार इस भयानक स्थिति से बखूबी वाकिफ है । मालूम हो कि भारत में भले ही अभी गंभीर समस्या नहीं है लेकिन सरकार सामुदायिक संक्रमण को रोकने के लिए हर तरह से प्रयास कर रही हैं ।

भारत के प्रधानमंत्री ने खुद जनता को संबोधित करते हुए लोगो से अपील की है को 22 मार्च को खुद को आइसोलेट करें और उन्होंने जनता कर्फ्यू की अपील की है । भारत में सभी स्कूल, कॉलेज, सिनेमाघर, शॉपिंग मॉल और इस तरह की भीड़भाड़ वाले जगहों को पूरी तरीके से बंद कर दिया गया है ।

अभी एक महीने पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अनुमान जताया था कि एक कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति और ढाई लोगो को संक्रमित कर सकता है और यह चार लोग तक बढ़ सकती है । भारत में और दुनियाभर में भी ज्यादातर लोगों के मन में यह भ्रम है कि कोरोना वायरस ज्यादातर बुजुर्गों को अपनी चपेट में ले रहा है । लेकिन दक्षिण कोरिया अपनी रेंडम जांच में पाया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित मामले 20 से 29 वर्ष के बीच वाले करीब 30 फीसदी लोगो हैं ।

हालांकि कोरोना वायरस से मरने वालों में मृत्यु दर सबसे ज्यादा बुजुर्गों की ही पाई जा रही है । भारत में कोरोना वायरस के दूसरे चरण में फैलने के बाद इस बात की संभावना बढ़ रही हैं कि इसके संदिग्धों के संपर्क में आने से यह बीमारी और ज्यादा भयानक रूप धारण कर लेगी । ऐसे में लोगो को ज्यादा से ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी ।

भारत सरकार ने दिशा निर्देश जारी करते हुए लोगों से कम से कम बाहर निकालने और भीलवाड़ा वाली जगह जाने से बचने की सलाह दी है और निर्देशों का कड़ाई से पालन करने की बात कही है । भारत में कई जगह धारा 144 भी लागू कर दी गई है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.