क्या 5G तकनीक से कोरोना वायरस से निजात पाया जा सकता है ??

क्या 5G तकनीक से कोरोना वायरस से निजात पाया जा सकता है ??

कोरोना वायरस जो कि चीन से फैलना शुरू हुआ महामारी का रूप धारण करके पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुका है और दिनोंदिन कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं । हालात ये हो गया है कि दो लाख से भी ज्यादा लोग कोरोना वायरस से पीड़ित हो चुके हैं । चीन और इटली में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है ।

वहीं दुनियाभर के वैज्ञानिक इससे निजात पाने के लिए नई नई तकनीक और दवाओं की खोज कर रहे हैं,कुछ तो कामयाब भी हो रहे हैं जिसका नतीजा है कि काफी संख्या में कोरोना वायरस से संक्रमित लोग ठीक भी हो चुके हैं । लेकिन अब भी लोगों के बीच कोरोना वायरस को लेकर डर बना हुआ है क्योंकि यह बहुत तेजी से लोगों के संपर्क में आने से एक दूसरे से फैल रहा है ।

कोरोना वायरस की वजह से जनजीवन ही नहीं बल्कि अर्थव्यवस्था भी बुरी तरीके से प्रभावित हो रही है । तरह-तरह के हो रहे शोध से वायरस से निजात पाने के उम्मीद जगी तो है । ऐसे में चीन भी कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए और तकनीक का परीक्षण कर रहा है जिससे कोरोनावायरस को नष्ट किया जा सके और चीन के हाथों एक तकनीकी सफलता लगी है ।

चीन ने एक ऐसा उपाय निकाला है जिसके जरिए कोरोनावायरस को ट्रैक करके उसे खत्म किया जा सकता है । यह यह तकनीक 5G तकनीक है । चीन का मानना है कि 5G तकनीक के द्वारा कोरोनावायरस का खात्मा किया जा सकता है ।

चीन में हुए एक अध्ययन का कहना है कि 5G तकनीक के द्वारा थर्मल इमेजिंग कोरोना वायरस जैसी छुआछूत की बीमारी की मॉनेटरी करने की क्षमता रखते हैं जिसकी सहायता से किसी भी चलने वाली वस्तु का तापमान जाना जा सकता है । इस तकनीकी के द्वारा किसी भी वस्तु का तापमान बिना उस वस्तु को टच किये ही जाना जा सकेगा ।

बता दें यह शोध चीन की कम्पनी हुआवेई और डेलॉयट ने मिल कर किया है । इस शोध में बताया गया है कि कोरोना वायरस की वजह से पब्लिक हेल्थ केयर सिस्टम पर काफी ज्यादा दबाव पड़ रहा है और रिस्पांस सिस्टम पर भी इस महामारी का व्यापक असर देखने को मिल रहा है ।

मालूम हो कि चीन दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है । यहां पर मोबाइल पापुलेशन रिसोर्सेज और उनकी मांग ज्यादा है और डॉक्टर इस फ़ास्ट तकनीकी लोगों की स्क्रीनिंग करने में एक बड़ा रोल अदा कर सकती है । यह 5G तकनीक फ्रंट लाइन स्टाफ की मदद करने में काफी कारगर साबित होगी ।

इसके लिए इस कंपनी के साथ मिलकर कोरोना वायरस का ट्रीटमेंट कर रहे अस्पतालों में टेलीकॉम ऑपरेटर के साथ मिलकर इसका सेटअप लगाया है, जिसकी सहायता से स्पीड में तेजी आने की वजह से हेल्थ केयर सिस्टम को काफी फायदा हुआ है । इससे मरीजों की मॉनिटरिंग डाटा कलेक्शन जैसे काम काफी आसान हो गए हैं और काफी तेज हो गए हैं ।

शोध करने वाली इन कंपनियों का मानना है कि 5G तकनीक कोरोना वायरस जैसी बीमारी से निपटने में काफी कारागार है और इस तकनीक को पब्लिक हेल्थ सेक्टर में एक नए बिजनेस के रूप में भी देखा जा सकता है । जब कोई भी मरीज एक जगह से दूसरी जगह ट्रांसफर किया जाता है तब 5G तकनीकी सहायता से उसकी मॉनिटरिंग करके आसानी से और जल्दी से एनालिसिस किया जा सकता है ।

5G तकनीकी सहायता से ही मेडिकल एक्सपर्ट कहीं से भी मरीज का आसानी से और जल्दी ट्रीटमेंट दे सकते हैं । भारत में जल्दी 5G तकनीक आने वाली है और इसके स्पेक्ट्रम की नीलामी 2020 के अंत तक शुरू होने की संभावना है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.