डाइबिटीज के मरीजो में कार्डियक अरेस्ट का रहती है अधिक संभावना

डाइबिटीज के मरीजो में कार्डियक अरेस्ट की रहती है अधिक संभावना

डाइबिटीज के मरीजो को हार्ट फेल्योर या हार्ट से जुड़ी बीमारियों के होने की संभावना अधिक होती है। हाल में हुए एक अध्ययन में कहा गया है कि डायबिटीज के रोगियों को कार्डियक अरेस्ट की संभावना काफी अधिक होती है । अध्ययन में पाया गया कि हृदय संबंधी संरचनात्मक असमानता के बिना भी डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों में हार्ट अरेस्ट की संभावना अधिक होती है ।

शोधकर्ताओं और अमेरिका स्थित एक मेडिकल स्टोर के अनुसार हार्ट फैलियर हाई ब्लड प्रेशर या कोरोनरी हार्ट डिजीज एक ऐसी स्थित का परिणाम हो सकती है । लेकिन यह हमेशा नहीं होता है । मेयो क्लीनिक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार डायबिटीज की वजह से डायबिटीज कार्डियोमायोपैथी और दिल की विफलता की जांच की गई ।

शोध करने के लिए एक हिस्से के रूप में वैज्ञानिकों ने डाइबिटीज और  हॉट की विफलता के विकास पर डायबिटीज के दीर्घकालीन प्रभाव का अध्ययन किया । इस अध्ययन में दोनों को संरक्षितकरने वाले इंजेक्शन के साथ प्रत्येक संकुचन के साथ छोड़ने वाले रक्त के प्रतिशत की जांच की । एक अगले इंजेक्शन की मात्रा को थोड़ा घटा दिया और फिर जांच की गई ।

शोधकर्ताओं ने हाई ब्लड प्रेशर कोरोनरी आर्टरीज डिजीज डायस्टोलिक फंक्शन के लिए नियंत्रित करते हुए । एक समूह की आबादी में होने वाली मौत का आकलन किया । शोधकर्ताओं ने डायबिटीज के साथ 116 से अधिक प्रतिभागियों का मिलान किया ।

यह मिलान उम्र, हाई ब्लड प्रेशर, लिंग, कोरोनरी आर्टरी डिजीज और हृदय शिथिलता की तुलना अन्य 232 प्रतिभागियों से की गई , जो डाइबिटीज से पीड़ित नहीं थे । इस शोध में यह देखने को मिला की हृदय रोग से मरीजो में दिल का दौरा और स्टॉक दोनों समूह के बीच के आंकड़े सांख्यकीय रूप से अलग नहीं थे ।

इसको करने वाले शोधकर्ता हार्टसन नेगी के अनुसार डायबिटीज ही अकेले दिल की विफलता के विकार के लिए एक स्वतंत्र जोखिम कारक है । शोधकर्ताओं ने उम्मीद जताते हुए कहा कि उनका यह अध्ययन डाइबिटीज और हार्ट फेल्योर की आगे की जांच को एक मजबूत आधार प्रदान करेगा । मालूम हो कि डाइबिटीज के मरीजो में ब्लड शुगर का स्तर काफी अधिक पाया जाता है ।

ब्लड शुगर की वजह से ब्लड प्रेशर की समस्या भी कभी कभी देखने को मिलती है । ठंड के मौसम में हार्ट अटैक होने की ज्यादा घटनाएं देखने को मिलती है । ठंढ के मौसम में हार्ट के मरीजो और डायबिटीज के मरीजो दोनों को अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है । ठंड के मौसम में हार्ट अटेक अधिक आते है ।

हार्ट ठंड से बचने के लिए खून की वाहिकाएं सिकुड जाती है और खून पंप ठीक प्रकार से नहीं हो पाता है । इसके अलावा ठंड के मौसम में खाने पीने का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए । थोड़ी सी भी असावधानी जानलेवा साबित हो सकती है । कोई भी परेशानी होने पर अपने आसपास के लोगों – परिजनों को बताना चाहिए और जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करने की कोशिश करनी चाहिए ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.