नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी पुरस्कार लेने भारतीय वेशभूषा में पहुंचे

इस साल अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी पुरस्कार लेने भारतीय वेशभूषा में पहुंचे

इस साल का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को दो अन्य लोगों के साथ संयुक्त रूप से दिया गया । भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी नोबेल पुरस्कार लेने के लिए भारतीय वेशभूषा में पहुंचे । अभिजीत बनर्जी भारतीय परिधान बन्द गले का जैकेट और सफेद रंग की धोती पहने हुए थे वही उनकी पत्नी एस्टर डुफ्लो ने नीले रंग की साड़ी पहनी हुई थी । अन्य सहयोगी माइकल क्रेमर सूट पहने हुए थे ।

मालूम हो कि अभिजीत बनर्जी कक उनकी पत्नी एस्टर डुफ्लो और माइकल क्रीमर को संयुक्त रूप से अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया । यह पुरस्कार वैश्विक स्तर पर गरीबी उन्मूलन के लिए किए गए कार्यो के लिए प्रदान किया गया । मालूम हो कि तीनों विजेताओं के बीच 9 मिलीयन स्वीडिश क्रोना जो लगभग 6.5 करोड़ रुपए के बराबर है, पुरस्कार में मिला । अभिजीत बनर्जी का जन्म भारत में हुआ था । अभिजीत बनर्जी अर्थशास्त्र के क्षेत्र में अमर्त्य सेन के बाद दूसरे भारतीय हैं जिन्होंने यह पुरस्कार जीता ।

अमर्त्य सेन की तरह अभिजीत बनर्जी भी प्रेसिडेंसी कॉलेज के छात्र रह चुके हैं । अभिजीत बनर्जी ने जवाहरलाल विश्वविद्यालय दिल्ली से अर्थशास्त्र में एम. ए. किया और बाद में अमेरिका पीएचडी के लिए चले गए ।  इस समय अभिजीत बनर्जी और एस्टर डुफ्लो मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी के अर्थशास्त्र विभाग में प्रोफेसर हैं और क्रेमर हावर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विभाग में प्रोफेसर है ।

मालूम हो कि हर साल स्वीडन के वैज्ञानिक अल्फ्रेड नोबेल की स्मृति में नोबेल फाउंडेशन द्वारा दुनिया का सर्वोच्च पुरस्कार नोबेल पुरस्कार दिया जाता है । नोबेल पुरस्कार – शांति,साहित्य, रसायन, भौतिक, चिकित्सा और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में दिया जाता है । नोबेल पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा अक्टूबर महीने में कर दी जाती है और सभी विजेताओं को नोबेल पुरस्कार स्वीडन के स्टॉक में आयोजित एक समारोह में 10 दिसंबर को दिया जाता है ।

इस साल अभिजीत बनर्जी को एस्टर डुफ्लो और माइकल क्रेमर के साथ संयुक्त रूप से “एक्सपेरिमेंट अप्रोच टू एलिवेटिंग ग्लोबल पॉवर्टी” के लिए अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार दिया गया है । नोबेल पुरस्कार देने वाली समिति ने अपने बयान में कहा कि इस शोध से वैश्विक गरीबी से निपटाने में पूरी दुनिया को मदद मिलेगी । मालूम हो कि अभिजीत बनर्जी का जन्म कोलकाता में हुआ था और उन्होंने प्रेसीडेंसी कॉलेज से पढ़ाई की इसके बाद अभिजीत बनर्जी ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में मास्टर की डिग्री हासिल की ।

अभिजीत बनर्जी से पहले अर्थशास्त्र के क्षेत्र में ही 1998 में भारतीय मूल के अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन को नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया था । एस्टर डुफ्लो का जन्म 1972 में हुआ था । वह सबसे कम उम्र की और अर्थशास्त्र के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाली दूसरी महिला है । नोबेल पुरस्कार से सबसे से पहले किसी महिला को २००९ सम्मानित किया गया था ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.