भारत की कार्यकर्ता ने जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में दुनिया को याद दिलाया उसका कर्तव्य

भारत की कार्यकर्ता ने जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में दुनिया को याद दिलाया उसका कर्तव्य

कोप-25 जलवायु सम्मेलन में भारत की आठ वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता लिसिप्रिया कांगुजम ने भाग लिया । उसने दुनिया को आने वाली पीढ़ी के प्रति उसके कर्तव्य को याद दिलाया । एझ बात की जानकारी संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख एंटोनियो गुटेरेस ने दी । इस सम्मेलन के दौरान कांगुजम की मुलाकात संयुक्त राष्ट्र के महासचिव से हुई और उसने दुनिया के बच्चों की ओर से एक ज्ञापन सौंपा ।

मालूम हो कि कोप 25 सम्मेलन 2 से 13 दिसंबर के बीच स्पेन की राजधानी मैंडरिन में आयोजित हुआ । कांगुजम ने जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए और अधिक ठोस उपायों के साथ एक बेहतर दुनिया का निर्माण करने के लिए ज्ञापन में सुझाव दिया है ।

मालूम हो कि मणिपुर की युवा जलवायु कार्यकर्ता ने जलवायु संकट से लड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की विशेष बैठक बुलाने की मांग की है । कांगुजम से मुलाकात के बाद संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि कांगुजम से मिलकर खुशी हुई इसने हमें हमारे दायित्व पर याद दिलाई जिसके लिए हमें तत्काल जलवायु परिवर्तन को लेकर एक्शन लेना होगा ।

यह जानकारी संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने ट्विटर के जरिए दी। मालूम हो कि स्पेनिश अखबारों में भी भारत की लड़की की जमकर तारीफ की गई है ।

6 साल की उम्र में ही कांगुजम ने 2018 में मंगोलिया में आपदा के मसले पर मंत्री स्तर के शिखर सम्मेलन में भाग लिया था जिसमें उसने कहा इस सम्मेलन से मेरी जिंदगी बदल गई है । मैं आपदाओं के चलते जब बच्चों को अपने माता-पिता से बिछड़ते देखती हूं तो रो पड़ती हूँ” ।

आपको बता देंगे कांगुजम का जन्म इम्फाल में हुआ है लेकिन वह आमतौर पर शहर से बाहर रहती है और ज्यादातर समय दिल्ली और भुवनेश्वर में रही है । जलवायु परिवर्तन के मसले पर उसके जुनून के चलते वह स्कूल नहीं जा पाती थी और इसलिए उसने फरवरी में स्कूल छोड़ दिया ।

कांगुजम के पिता ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र में शिखर सम्मेलन में शामिल होने के लिए उनकी बेटी को आमंत्रित किया था लेकिन उन्होंने सोचा कि स्पेन जाने में खर्च होने वाले पैसों का प्रबंध कैसे होगा और इसके लिए उन्होंने कई मंत्रियों से मदद की गुहार लगाई । लेकिन कोई जवाब नहीं आया बाद में भुवनेश्वर के एक व्यक्ति ने मेड्रिड के लिए टिकट बुक कर दिया ।

उसके बाद 30 नवंबर को मेड्रिड रवाना होने से 1 दिन पहले उन्हें एक ईमेल मिला जिसमें बताया गया था कि उनकी 13 दिन की यात्रा का खर्च स्पेन की सरकार वाहन करेगी । कांगुजम इन दिनों भारत भर में जलवायु परिवर्तन के लिए लोगों को जागरूक कर रही है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.