खूब हंसने और बोलने से बढ़ती है शरीर की इम्युनिटी : जाने इम्युनिटी बढ़ाने के दिलचस्प तरीके

आज के समय मे हर कोई स्वस्थ रहना चाहता है । स्वस्थ रहने का सबसे अच्छा तरीका है कि दिन शारीरिक रूप से सक्रियता में बीते । हम जो भी कुछ कर रहे हो बस इस बात का ध्यान रखें कि खुश रहे और शरीर का हर अंग काम करे और हर समय एक्टिव रहे । खुश रहना इम्यूनिटी को बढ़ाने का सबसे अच्छा और सबसे आसान तरीका है । अगर हम गौर करें तो हमने यह महसूस किया होगा कि जब जब हम खुश होते हैं तो हमें अपनी बीमारी भी महसूस नहीं होती है ।

वहीं इस संबंध में डॉक्टर का कहना है कि खूब खुश रहने आयु बढ़ती है और इसके विपरीत दुखी रहने से यह इंसान को धीरे-धीरे बीमार करके खत्म कर सकती है । इसलिए जरूरी है कि पर्याप्त नींद ले, पौष्टिक भोजन करें और घूमने जाएं, इससे शारीरिक और मानसिक रूप से हम स्वास्थ्य रह सकते हैं ।

जानते हैं इम्युनिटी बढ़ाने वाले कुछ दिलचस्प तरीकों के बारे में –

खूब हंसना और बोलना – कहा जाता है हंसना सबसे अच्छी दवा है और यह सच है । विशेषज्ञों का इस संदर्भ में कहना है कि पूरे दिल से हंसने से शरीर  के तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के अपने स्तर को कम करने में मदद मिलती है साथ ही ब्लड प्रेशर को कम  करने में सहायक होता है और शरीर में इससे ऑक्सीजन का प्रवाह बढ़ जाता है और यह सारी चीजें हमारे इम्यून सिस्टम को बढ़ाते हैं और उन्हें स्वस्थ रखते हैं । खूब सारी बातें करना भी इम्यून सिस्टम के लिए काफी अच्छा होता है । इसलिए हमेशा हंसते और बोलते रहना चाहिए ।

थोड़ा गंदा और अवस्थित रहना– अक्सर हमने देखा और सुना है कि जो लोग ज्यादा साफ-सफाई में रखते हैं वे लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं । इसलिए हमें थोड़ा गंदगी भी रहने की आदत होनी चाहिए  । सच्चाई यह है कि अपने आसपास बहुत ज्यादा साफ रखने की आदत की वजह से, इससे हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है ।

जब घर काफी साफ सुथरा रहता है तो कीटाणुओं और जीवाणुओं से संपर्क नहीं हो पाता है और जब कभी बाहर कीटाणुओं के संपर्क में आते हैं तो इस वजह से गंभीर रूप से बीमार हो जाते हैं । कुछ लोग तो इतना व्यवस्थित रहने के आदी होते हैं की थोड़ा सा भी कुछ भी अव्यवस्थित होने पर बीमार पड़ जाते हैं ।

ग्रामीण इलाकों में रहना धूप व धूल में घूमना – तेज शहरी जीवन के विपरीत  ग्रामीण क्षेत्र में धीमी और अधिक प्रकृति होती है । जब हम भीड़ से दूर रहते हैं तो एक बंद कमरा हमें मानसिक रूप से बीमार कर सकता है । वही जो लोग ग्रामीण क्षेत्र में रहते हैं, उनको बैक्टीरिया की एक विस्तृत श्रृंखला  का सामना करना पड़ता है जो उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को चुनौती देता है ।

ऐसे में जब बीमार होंगे तब यह शरीर की इम्यूनिटी पावर बढ़ने लगेगी । इसी तरह जब हम धूल और धूप में रहने के आदी हो जाते हैं तो इसके प्रति उतनी सेन्स्टिव नहीं रहते हैं और आसानी से बीमार नहीं होते और इस तरह धीरे-धीरे इन सब के आदी हो जाने के बाद हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत हो जाता है ।

आलसी होना– थोड़ा बहुत जरूरी आराम करना सभी के लिए आवश्यक होता है ।  8 घंटे की नींद  पूरी  होने के बाद भी कभी-कभी आराम करने को मन करता है । जब शरीर को हम हमेशा एक ही पैटर्न में रखते हैं तो इससे शरीर को उसकी आदत हो जाती है और जब इसमें थोड़ा सा बदलाव होता है तो हम बीमार पड़ जाते हैं । शारीरिक रूप से दिनभर सक्रिय रहने और व्यायाम करने से शरीर स्वस्थ रहता है और बीमार भी कम पड़ता है ।

बहुत अधिक व्यायाम करना भी हमारे इम्यून सिस्टम को कमजोर करता है । इसलिए कभी-कभी आलस और आराम करना चाहिए । इससे मानसिक और शारीरिक ढंग से शरीर रिप्लेस हो पाता है ।

आशावादी बनाना- हमेशा हर चीज के बारे में आशावादी और सकारात्मक रवैया अपनाना शरीर के लिए फायदेमंद होता है । इससे जीवन के साथ तर्क करना और मानसिक स्वास्थ्य को समृद्ध बनाया जा सकता है । इसलिए जब भी चुनौतियों का सामना जब हम करते हैं तो मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत होते हैं ।

इस तरीके से हम खुले दिमाग वाली इंसान भी बन सकते हैं और इससे इम्यूनिटी भी वक्त के साथ धीरे-धीरे मजबूत हो जाती है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.