जानते है क्या होता है यूएसबी कंडोम और कब करते है इसका इस्तेमाल

आजकल हर कोई चलते-फिरते सोते जागते हर समय मोबाइल का इस्तेमाल करने लगा है । मोबाइल जैसे एक तरह से लोगों का जीवन चला रही है और मोबाइल को बैटरी चलती है और जब कभी मोबाइल डिस्चार्ज हो जाता है यानी की बैटरी खत्म हो जाती है तो लगता है मानो जिंदगी ठहर सी गई । आजकल हर सामान छोटा से बड़ा कोई भी सामान खरीदने के लिए हम डिजिटल पेमेंट करने लगे हैं ।

इस वजह से एयरपोर्ट, स्टेशन, होटल,  शॉपिंग सेंटर हर जगह मोबाइल रिचार्ज करने के लिए सुविधा मिल जाती है । जहां पर यूएसबी पोर्ट लगे होते हैं । जब हम यूएसबी पोर्ट से अपना मोबाइल का बैटरी चार्ज करने लगते हैं तो क्या कभी सोचा है कि यह कितना सुरक्षित होता है ? मोबाइल चार्जर साथ लेकर चलने की झंझट से मुक्ति और हर जगह आसानी से उपलब्ध मिलने वाले ये यूएसबी पोर्ट हमारी निजता के लिए बहुत बड़ा खतरा है ।

इसके जरिये उपलब्ध डेटा  का इस्तेमाल अपराधी निजी जानकारी चुराने के लिए करते हैं और इससे बचने के लिए बाजार में यूएसबी डाटा ब्लॉकर्स उपलब्ध हो गए हैं, जिन्हें “यूएसबी कंडोम” का यूनिक नाम दिया गया है ।   यह कंडोम जूस जैकिंग जैसी चीजों से बचाता है ।

जूस जैकिंग एक तरह से साइबर अटैक है जो सार्वजनिक यूएसबी के जरिए हमारे मोबाइल को नुकसान पहुंचाता है और हमारे मोबाइल में वायरस यानी मालवीय इंस्टॉल हो जाता है और इसके बाद हमारी निजी जानकारियां साइबर अपराधियों तक पहुंचा सकती हैं ।

इस संबंध में ल्यूक सिसक ने चेतावनी भी जारी की थी । ल्यूक अमेरिका के है जो लॉस एंजिल्स काउंटी के आयोजक के कार्यालय में सहायक है । यूएसबी का एक छोटा मॉडल की तरह होता है जिसमें इनपुट और आउटपुट होता है ।

यह मोबाइल को पावर सप्लाई करता है लेकिन डाटा एक्सचेंज को पूरी तरीके से रोक देता है । अमेरिकी बाजारों में यह 10 डॉलर में उपलब्ध है । यह इतना छोटा है कि इसे कहीं भी आसानी से ले जाया जा सकता है । भारत में भी यह 500 से 1000 रुपये में ऑनलाइन उपलब्ध हो गया है ।

ल्यूक सार्वजनिक यूएसबी पोर्ट को विनाशकारी बताया है और चेतावनी देते हुए कहा कि “एक फ्री बैटरी चार्जिंग आपके बैंक खाते को खाली कर सकता है  यह अगर मालवीय इंस्टॉल कर देते हैं तो यह आपके फोन लॉक कर सकते हैं और पासपोर्ट और घर के पते जैसे संवेदनशील जानकारियों को चुरा सकता है” ।

इसलिए यह वक्त की जरूरत है कि यूएसबी कंडोम का इस्तेमाल किया जाए और सार्वजनिक जगहों पर मोबाइल चार्ज करने की सुविधा का इस्तेमाल सुरक्षित तरीके से किया जाए, लापरवाही बरतने से इसके गंभीर परिणाम हो सकती हैं ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.