महाभियोग की जाँच की रिपोर्ट में डोनॉल्ड ट्रंप दोषी करार

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की जांच की प्राथमिक रिपोर्ट जारी हो गई है । जिसमें डोनाल्ड ट्रंप दोषी पाए गए हैं । डेमोक्रेटिक पार्टी के बहुमत वाले अमेरिकी सदन की न्यायिक समिति बुधवार सुबह डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ चल रही महाभियोग की प्राथमिक रिपोर्ट जारी कर दी ।

इस रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है कि डोनाल्ड ट्रंप ने अपने व्यक्तिगत और राजनीति को देश के लिए देश के हित के साथ समझौता किया है और अपने ऑफिस की शक्तियों का गलत इस्तेमाल किया है । रिपोर्ट में डोनाल्ड ट्रंप आगामी राष्ट्रपति चुनाव में अपने पक्ष में विदेशी मदद मांगने की दोषी करार पाए गए हैं ।

वहीं दूसरी तरफ व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने इस रिपोर्ट की आलोचना करते हुए कहा कि यह एकतरफा झूठी कार्यवाही है ।यह रिपोर्ट 300 पेज की है । जिसमें कहा गया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन और उनके बेटे से जुड़ी कंपनियों के खिलाफ जांच करने के लिए प्रस्ताव दिए थे ।

जांच में पाया गया कि डोनाल्ड ट्रंप दोबारा राष्ट्रपति बन्नी को अगले राष्ट्रपति अभियान में योगदान से मदद के बदले में दोबारा राष्ट्रपति बनने पर उनके राष्ट्रपति को सैन्य मदद देने का वादा किए थे । इस बात की भी पुष्टि हो गई है कि डोनाल्ड ट्रंप और राष्ट्रपति के बीच फोन पर बातचीत हुई थी ।

डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के प्राथमिक रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है कि अमेरिका से पूरे इतिहास में डोनाल्ड ट्रंप को छोड़कर आज तक किसी राष्ट्रपति ने अधिकारियों को सांसद के सामने गवाही न देने के लिए सीधा आदेश कभी नहीं दिया है ।

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ट्रंप डोनाल्ड ट्रंप ने संसदीय गवाहों को धमकी दी है जो कि एक तरह से संगीन अपराध है । इस रिपोर्ट में डोनाल्ड ट्रंप पर महाभियोग की जांच को बाधित करने के प्रयास का आरोप भी लगाया गया है ।

मालूम हो कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर यह आरोप लगाया गया है कि वह अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में संभावित प्रतिद्वंदी जो ब्रेडन समेत अपनी घरेलू प्रतिनिधियों की छवि खराब करने के लिए गैरकानूनी रूप से मदद मांगी है ।

इस विषय में वाइट हाउस में ज्यूडिशियल कमेटी अपनी सुनवाई शुरू करने के बाद इस बात को स्पष्ट करेगी कि जांच में शामिल किए गए सबूत राजद्रोह, घूस या अन्य अपराधों और खराब आचरण के आधार पर संवैधानिक रूप से महाभियोग चलाने के मानकों को पूरा कर रहे हैं या नहीं ।

इसी के आधार पर अब आगे यह बात स्पष्ट होगी कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर महाभियोग की कार्यवाही होगी या नही । यदि डोनाल्ड ट्रंप पर महाभियोग साबित हो जाता है तो उन्हें राष्ट्रपति पद से हटा दिया जाएगा ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.