पाकिस्तान ने लांच किया टाइफाइड से निपटने का एक नया टीका : विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दी मंजूरी

पाकिस्तान में बड़ी संख्या में टाइफाइड के मरीज देखने को मिल रहे हैं । इसको देखते हुए पाकिस्तान सरकार सजग हो गई है । पाकिस्तान ने टाइफाइड से निपटने के लिए एक नया टीका लॉन्च किया है । पाकिस्तान द्वारा लांच किए गए इस नए टीके को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी मंजूरी दे दी है ।

सबसे खास बात यह है कि पाकिस्तान में टाइफाइड से लड़ने का यह टिका उस समय लांच किया है जब पाकिस्तान बेहद  आर्थिक तंगी के दौर से गुजर रहा है । आर्थिक तंगी के बावजूद पाकिस्तान सरकार ने अपने नागरिकों के लिए टाइफाइड का नया टीका मुहैया कराया है ।

टाइफाइड के नए टीके का सबसे पहले प्रयोग पाकिस्तान के सिंध प्रांत में किया जाएगा । क्योंकि पाकिस्तान के सिंध प्रांत में टाइफाइड के कई सारे मामले सामने आए हैं । साल 2017 में करीब दस हजार लोग टाइफाइड से पीड़ित थे । इन बातों को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तान सरकार में 2 हफ्ते के लिए सिंध प्रांत में टाइफाइड के नए टीके का इस्तेमाल सबसे पहले करेगा ।

इसके लिए यहां एक कैंपेन 2 सप्ताह के लिए चलाया जाएगा । सिंध के बाद टाइफाइड के टीके को आने वाले समय में पाकिस्तान के अन्य राज्यों में भी इस्तेमाल किया जाएगा । मालूम हो कि पाकिस्तान में टाइफाइड के स्थिति बेहद खतरनाक है ।

पाकिस्तान में करीब 70 लोग टाइफाइड से पीड़ित हैं और यह स्थिति बद से बदतर होती जा रही है । पाकिस्तान का स्वास्थ्य बजट काफी कम है और पाकिस्तान की एक बहुत बड़ी आबादी टाइफाइड से पीड़ित है । टाइफाइड को आँत का ज्वार कहा जाता है । यह एक खतरनाक रोग है । इसे मियादी बुखार भी कहा जाता है । टाइफाइड के मरीजों का एंटीबायोटिक दवाइयों से इलाज किया जाता है ।

टाइफाइड  सलमोनेल्ला टायफी नामक जीवाणु से होता है जो केवल मनुष्य में पाया जाता है । टाइफाइड पीड़ित व्यक्ति के मल से मलिन हुए जल या खाद्य पदार्थों से यह फैलता है । टाइफाइड से दुनिया भर में हर साल करोड़ो लोग प्रभावित होते है और इससे हर साल लोगों की मौत हो जाती है ।

टाइफाइड के लक्षण

  1. टाइफाइड बुखार के लक्षण में हल्के से लेकर तेज बुखार देखने को मिलता है ।
  2. टाइफाइड के जीवाणु के संपर्क में आने के एक से दो  हफ्ते के बाद से इसके लक्षण प्रकट होने लगते है।
  3. टाइफाइड से पीड़ित व्यक्ति को बुखार, सिरदर्द, मचली, कब्ज, दस्त, भूख ना लगना और शरीर पर गुलाबी रंग के चकत्ते पड़ जाते हैं ।
  4. टाइफाइड का पता लगाने के लिए टाइफाइड से पीड़ित व्यक्ति के ब्लड में इसके जीवाणु की पहचान की जाती है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.