महेंद्र सिंह धोनी

पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा

महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय टीम के सबसे सफलतम कप्तानों में गिना जाता है। आज 15 अगस्त को धौनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। इसकी जानकारी धोनी ने अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम पर दी है। महेंद्र सिंह धौनी 39 साल के हैं और अपना आखिरी मैच विश्व कप 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था।

यह एक सेमीफाइनल मुकाबला था और इसमें भारतीय टीम को हार मिली थी और उसी हार के साथ भारतीय टीम वर्ल्ड कप से बाहर हो गयी थी। इसके बाद से ही धोनी ने क्रिकेट से ब्रेक लिया और खुद को अनुपलब्ध बताया और फिर उनके क्रिकेट कैरियर को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे। आज अचानक से माही ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है।

बता दें कि धोनी ने भारतीय टीम की कमान राहुल द्रविड़ से मिली थी। भारत को भारतीय क्रिकेट पर बुलंदियों पर पहुंचाने में महेंद्र सिंह धौनी का महत्वपूर्ण योगदान है। धौनी की अगुवाई में पहली बार साल 2007 में खेले गए टी-20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम ने साउथ अफ्रीका में जीत हासिल की थी और उन्हकने अपने अंदाज में दिखा दिया था कि वह भारतीय टीम को बुलंदियों पर ले जाने वाले हैं। इसके बाद धौनी का सफर आगे बढ़ता गया और भारतीय टीम एक से बढ़कर एक कामयाबी दर्ज करती गई।

साल 2011 में महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में ही भारतीय टीम विश्व कप मैच में जीत हासिल की थी। 2011 में धोनी की ही कप्तानी में भारतीय टीम ने अपनी ही धरती पर अपने फैंस के सामने दूसरी बार विश्व कप मैच जीता था। इसके पहले भारतीय टीम को 1983 में कपिल देव की अगुवाई में वर्ल्ड कप में जीत हासिल हुई थी। धोनी की अगुवाई में भारतीय टीम ने दूसरा वनडे वर्ल्ड कप का खिताब जीता था।

धोनी एक सफलतम कप्तान में गिने जाते हैं। साल 2013 में धोनी ने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब भी भारतीय टीम को दिलवाया था और धोनी की ही अगुवाई में भारतीय टीम ने साल 2010 और साल 2016 में एशिया कप का खिताब जीता था।

यह भी पढ़ें : धौनी ने खोला राज कहा शादी के पहले लड़के शेर की तरह होते है

महेंद्र महेंद्र सिंह धोनी दुनिया के एकमात्र कप्तान है जिन्होंने आईसीसी के सारे खिताब अपनी कप्तानी में जीते हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने टेस्ट मैच की कप्तानी अचानक से छोड़कर अपने फैंस को बड़ा झटका दिया था और अब फिर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के फैसले से सब को चौंका दिया है। अब कभी भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में महेंद्र सिंह धोनी का अंदाज देखने को नहीं मिल पाएगा।

धोनी को कैप्टन कूल के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि परिस्थितियां चाहे जैसे भी हो महेंद्र सिंह धोनी अपने कूल अंदाज में ही नजर आते थे। महेंद्र सिंह धोनी न  सिर्फ एक सफलतम कप्तान रहे हैं बल्कि एक बेहतरीन बल्लेबाज और विकेटकीपर के तौर पर भी अपनी पहचान बनाई है।

धोनी पहले लंबे बाल रखा करते थे, एक बार पाकिस्तान के खिलाफ खेलते हुए धोनी ने शतकीय पारी खेली थी और उस वक्त पाकिस्तान के राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने धोनी के बालों की तारीफ करते हुए कहा कि अपने बाल मत कटवाना क्योंकि इसमें कूल दिखते हो। इसके बाद ही महेंद्र सिंह धोनी ने अपने बाल कटवा लिए थे।

15 अगस्त का दिन एक और याद के साथ जुड़ गया है, क्योंकि इस दिन भारत के सबसे सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैरियर में 90 टेस्ट खेले हैं जिनमें उनका बेस्ट स्कोर 224 रन का रहा है और उन्होंने 38.09 की औसत से कुल 4876 रन बनाए हैं।

यह भी पढ़ें : विश्व कप के सेमीफाइनल में रनआउट पर धोनी ने अब जा कर तोड़ी चुप्पी

बात अगर वनडे मैच की करे तो महेंद्र सिंह धोनी ने 350 वनडे मैच खेले हैं और 10773 रन बनाए हैं। वनडे में बेस्ट स्कोर नाबाद 183 रन का रहा है। महेंद्र सिंह धोनी ने जहां अपने टेस्ट करियर में कुल 6 शतक लगाए हैं तो वनडे में 10 शतक लगाए हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने कुल 98 T20 मैच भी खेले हैं जिनमें उन का बेस्ट स्कोर 56 रन का रहा है। बतौर विकेटकीपर विकेट के पीछे रहकर महेंद्र सिंह धोनी ने 256 कैच और 29 स्टंप भी किये हैं।

बेहतरीन खेल के लिए भारत सरकार द्वारा धौनी को साल 2008 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार, साल 2009 में पद्मश्री पुरस्कार और साल 2018 में पद्म भूषण सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है। महेंद्र सिंह धोनी साल 2008 और 2009 में लगातार दो बार आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर भी रहे हैं।

महेंद्र सिंह धोनी के जिंदगी पर एक फिल्म ‘एम एस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी’ नाम से फिल्म भी साल 2016 में बनाई गई थी, जिसमें महेंद्र सिंह धोनी का किरदार दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने निभाया था।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.