आइये जाने उन यौगिक के बारे में जो माइग्रेन में दवा से भी ज्यादा असरकारी है

आइये जाने उन यौगिक के बारे में जो माइग्रेन में दवा से भी ज्यादा असरकारी है

आज के समय में माइग्रेन एक बड़ी समस्या बन गई है । माइग्रेन और सिर दर्द को लेकर भी लोगों में कई सारी भ्रांतियां हैं । अगर बात सिर दर्द की करे तो सिर दर्द 2 से 3 घंटे में ठीक हो जाता है लेकिन माइग्रेन का सिरदर्द 2 से 3 दिन तक बना रहता है । माइग्रेन का सिरदर्द लगातार बना रहता है और इससे निजात पाना बहुत मुश्किल होता है । लोगों में इस बात की भ्रांतियां हैं कि माइग्रेन का सिर दर्द सिर्फ दवा से ही ठीक हो सकता है ।

लेकिन ऐसा नहीं है दवा माइग्रेन के सर दर्द को जड़ से खत्म नहीं कर सकती हैं, लेकिन योगासन के जरिए माइग्रेन के सर दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है । माइग्रेन का सिरदर्द डिहाइड्रेशन, ज्यादा तनाव लेना, तेज धूप में निकलने की वजह से, अत्यधिक सोचने की वजह से तथा स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं की वजह से होता है ।

माइग्रेन के दर्द से छुटकारा पाने में उपयोगी चीजे :-

मूल आहार :- योग में हमेशा मूल आहार पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है और स्वाद और मसालों से दूर रहने की सलाह भी दी जाती है । योग नियम के अनुसार जीवन में पांच सफेद जहर को भोजन से हटाकर सात्विक आहार लेना चाहिए । सात्विक आहार में पत्तेदार सब्जियां, मौसमी फल, सब्जी और आसानी से पचने वाले खाद्य पदार्थ के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया जाता है साथ ही मैग्नीशियम वाले खाद्य पदार्थों को भोजन में शामिल करने और बादाम, पालक, दही को भी में शामिल करने की बात कही जाती है ।

विहार :- आहार के बाद बस आती है विहार की यानी कि ऐसे काम करें जिससे तनाव दूर हो और मन को प्रसन्नता मिले । इसके लिए प्रकृति के बीच रहना चाहिए और घास पर कुछ देर नंगे पैर घूमने या फिर अपनी खिड़की या छत से बाहर हरियाली के नजारे देखने चाहिए, शरीर को पर्याप्त आराम देकर भी ऊर्जावान बना रहा जा सकता है । इसके लिए जल्दी सोने और जल्दी जगने की आदत बनाना चाहिए । इसके अलावा गर्दन कंधे और शरद की नियमित तौर से मालिश भी की जा सकती है ।

योगासन :- माइग्रेन के सर दर्द को न्यूरोलॉजिकल समस्या में गिना जाता है । ऐसे में योग के द्वारा इसके दर्द को कम किया जा सकता है । इससे माइग्रेन के अटैक काफी कम हो जाते हैं और लंबे समय तक योग प्राणायाम करने से माइग्रेन का दर्द बिल्कुल बंद हो जाता है । प्राणायाम के अलावा कपाल रंद्र घोती, जलनेति, वमन घोती भी माइग्रेन से निजात दिलाने में मददगार होते है । इसके अलावा अधोमुख आसन, हस्तपाद आसन और शशांक आसन नियमित तौर से करना काफी ज्यादा फायदेमंद होता है, क्योकि ये आसन ब्लड सर्कुलेशन के को ठीक करते है । अनुलोम विलोम और कपालभाति करना भी फायदेमंद होता है ।

विचार :- मन चंचल होता है इस लिए मन पर काबू रखना जरूरी होता है । मन को यथासंभव शांत रखने की कोशिश करनी चाहिए ।

योग का नियमित अभ्यास से माइग्रेन की समस्या से जड़ से छुटकारा पाया जा सकता है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.