फाइनल मैच में मिली हार ने शैफाली वर्मा को रुला दिया

फाइनल मैच में मिली हार ने शैफाली वर्मा को रुला दिया

भारत और ऑस्ट्रेलिया महिला टीम के बीच खेले गए आईसीसी T20 मैच के फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हरा दिया । टास जीतकर ऑस्ट्रेलियाई टीम पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया । टॉस हारने के बाद भारतीय टीम शुरू से ही दबाव में आ गई और ऑस्ट्रेलिया का विकेट गिरना भारतीय गेंदबाजों के लिए एक चुनौती बन गया ।

भारतीय गेंदबाजों की जमकर धुनाई ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने की । भारत सिर्फ 4 विकेट ऑस्ट्रेलिया के गिराने में कामयाब रहा । आस्ट्रेलिया ने निर्धारित 20 ओवर में 4 विकेट खोकर 184 रन बनाए । भारत के लिए यह एक विशाल स्कोर था और इसी के दबाव के चलते भारतीय बल्लेबाजों ने खराब प्रदर्शन किया ।

मालूम हो कि भारत ने आईसीसी T20 टूर्नामेंट में पहला मैच ऑस्ट्रेलिया के साथ खेला था जिसमें भारत ने जीत दर्ज की थी लेकिन फाइनल के मैच में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को हराकर उस हार का बदला लिया साथ ही विश्वकप का खिताब भी अपने नाम किया । भारत की सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा जो कि पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन कर रही थी फाइनल मैच में मात्र 2 रन बनाकर आउट हो गई जिससे वो निराश हो गई ।

बता दें शेफाली वर्मा अभी मात्र 16 साल की है । फाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया भारत को हरा दिया इसके बाद शेफाली वर्मा भारत की इस हार से अपने आंसू नहीं रोक सकी । दीप्ति शर्मा भारत की तरफ से एकमात्र बल्लेबाज थी जिन्होंने 33 रन की बड़ी पारी खेली ।

भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर ने भी मात्र 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गई और पूरे टूर्नामेंट में वो कप्तानी पारी न खेल सकी । भारत का पहला विकेट पहले ओवर की तीसरी गेंद पर शैफाली वर्मा के रूप में गिरा । इस तरह से भारत की शुरुआत ही बेहद निराशाजनक थी । फाइन की जीत के लिए शेफाली वर्मा की बेहतरीन बल्लेबाजी की जरूरत थी लेकिन फाइनल के मुकाबले में शेफाली बर्मा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकी ।

हालांकि पूरे टूर्नामेंट में शेफाली वर्मा ने 32.6 के औसत से 163 रन बनाए हैं । इसी के साथ सेफाली वर्मा के नाम एक रिकॉर्ड बन गया कि वह सबसे कम उम्र में फाइनल खेलने वाले खिलाड़ी बनी । शैफाली ने मात्र 16 साल 40 दिन की उम्र में फाइनल का मैच भारत के लिए खेला जिसमें उन्होंने सर्वाधिक छक्के लगाए हैं ।

शैफाली टी 20 और वनडे में भी विश्व कप का फाइनल खेलने वाली महिला और पुरुष दोनों में सबसे युवा खिलाड़ी के रूप में अपना नाम दर्ज करा ली । हालांकि इसके पहले यह रिकॉर्ड वेस्टइंडीज की महिला खिलाड़ी के नाम था । वेस्टइंडीज की महिला खिलाड़ी शकना क्वीनटाइन ने 2013 में 17 साल 45 दिन की उम्र में वेस्टइंडीज के लिए फाइनल का मैच खेला था ।

इस टूर्नामेंट में शेफाली  ने 17 गेंद पर 39 रन की ताबड़तोड़ पारी बांग्लादेश के खिलाफ खेली थी जिसमें उन्होंने 4 छक्के लगाए थे । शेफाली वर्मा के नाम इस विश्व कप में एक और विश्व रिकार्ड दर्ज हुआ ।

शेफाली वर्मा दुनिया की सबसे कम उम्र में मैन आफ द मैच का खिताब जीतने वाले खिलाड़ी बन गई हैं । शेफाली वर्मा को बांग्लादेश के खिलाफ धुआंधार पारी के लिए मैन ऑफ द मैच का अवार्ड मिला था । इस आईसीसी T20 मैच में शर्मा को लगातार दो मैन आफ द मैच मिला था, पहला मैन आफ द मैच बांग्लादेश के खिलाफ दूसरा न्यूजीलैंड के खिलाफ 46 रन की पारी खेलने के लिए ।

विश्व कप में T20 मैच में शानदार प्रदर्शन की बदौलत शैफाली वर्मा अब दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी बन गई हैं । उन्होंने नंबर एक खिलाड़ी होने का की उपलब्धि मात्र 18 मैच खेलकर पाई है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.