चीन की आर्थिक रिपोर्ट से अमेरिका को राहत मिलेगी!

चीन की आर्थिक रिपोर्ट से अमेरिका को राहत मिलेगी!

चीन एक ऐसा देश है जो सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में अमेरिका को बराबर की टक्कर देता है । लेकिन इन दिनों चीन के आर्थिक हालत थोड़ा खराब हो गई है । चीन ने अभी अपने देश के आर्थिक विकास के जो आंकड़े पेश किए हैं वह चौंकाने वाले हैं । इस रिपोर्ट के आने में खास बात यह है कि यह उस समय आया है जब हाल में ही अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार खत्म हुआ है और दोनों देशों ने एक ट्रेड समझौता किया है ।

तो हो सकते हैं अमेरिका को चीन की आर्थिक विकास की रिपोर्ट देखकर थोड़ी राहत मिली । काफी दिनों से चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वार चल रहा था जिसके चलते अमेरिका ने ड्रेगन की कमर तोड़ दी है । इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि चीन की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में पिछले 30 वर्षों में सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है ।

1990 के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब चीन की आर्थिक विकास दर इतनी नीचे पहुंची है । चीन की आर्थिक विकास दर 2019 में 6.1 % रही जबकि 2018 में 6.6% के आसपास थी चीन के आर्थिक विकास में गिरावट का कारण अमेरिका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वालों को बताया गया है । चीन की राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के आंकड़ों पर नजर डालें तो  एक वर्ष में चीन की आर्थिक वृद्धि दर में हर तिमाही में गिरावट दर्ज की गई ।

चुन की अर्थव्यवस्था में गिरावट की दर 2018 की तुलना में यह ज्यादा रही । चीन दुनिया की सबसे तेज विकसित होने वाली अर्थव्यवस्था में से एक है । चीन के आर्थिके विकास का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि व्यापार के क्षेत्र में अमेरिका चीन को अपना प्रतिनिधि मानता है ।

इसलिए दोनों देशों के बीच ट्रेड वॉर के चलते एक शीतयुद्ध का माहौल बन गए थे । चीन और अमेरिका के बीच साल ट्रेडवार  2018 से चल रहा है । चीन की अर्थव्यवस्था की संवेदनशीलता अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि अर्थव्यवस्था में आधे फीसदी से ज्यादा गिरावट से चीन में कोहराम मचा हुआ है क्योंकि चीन की अर्थव्यवस्था में ये आधा फीसदी काफी अहम है ।

अमेरिकी ट्रेडबार से दुनिया में आई मंदी के कारण अर्थशास्त्रियों को उम्मीद है कि इस साल चीन की विकास दर 6% से कम रहेगी, जिस से निपटने के लिए चीन नई आर्थिक विकास की योजना बना रहा है और इस साल 6 फीसदी आर्थिक विकास दर हासिल करने का लक्ष्य रखा है ।

चीनी अर्थव्यवस्था में मंदी देखने को मिल रही है और अर्थव्यवस्था की मंडी को दूर करने के लिए चीन अपने बुनियादी ढांचे में खर्च को बढ़ा रहा है । अमेरिका और चीन के बीच पिछले दो सालों से ट्रेडवार चल रहा है जो अभी 2 दिन पहले ही समाप्त हुआ और दोनों देशों ने राहत की सांस ली । अमेरिका और चीन के बीच पहले चरण का व्यापार समझौता हो गया है जिसके चलते बाजारों में तेजी देखी गई ।

चीन अर्थव्यवस्था की मंडी स निकलने के लिए राजकोषीय और मौद्रिक कदमों के मिश्रण पर भरोसा कर रहा है और करों में कटौती कर रहा है । स्थानी सरकारों को बुनियादी परियोजनाओं के लिए भारी मात्रा में बांड को बेचने की अनुमति भी चीन ने दे रखी है ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.