Truecaller को टक्कर देने आया देसी ऐप BharatCaller, कई मायनों में होगा बेहतर

भारत में कॉलर आईडी ऐप Truecaller को टक्कर देने के लिए नेटिव ऐप BharatCaller बनाया गया था। डेवलपर कंपनी का दावा है कि यह ऐप न केवल Truecaller से बेहतर है, बल्कि यह एक बेहतरीन अनुभव भी प्रदान करता है।

BharatCaller को भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM) बैंगलोर के छात्र प्रज्वल सिन्हा ने बनाया था। वहीं कुणाल पसरीचा इस ऐप के को-फाउंडर हैं। दोनों को नेशनल स्टार्टअप अवॉर्ड 2020 से नवाजा गया। इस एप को गूगल प्ले स्टोर और एप स्टोर से फ्री में डाउनलोड किया जा सकता है।

डेटा लीक नहीं होगा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत कॉलर के सर्वर पर यूजर्स के कॉन्टैक्ट्स और कॉल लॉग्स स्टोर नहीं होते हैं, इसलिए उनकी प्राइवेसी का किसी भी तरह से उल्लंघन नहीं किया जा सकता है।

इसके अलावा, कंपनी के कर्मचारियों के पास उपयोगकर्ताओं के फोन नंबरों का डेटाबेस नहीं है और वे इस जानकारी तक नहीं पहुंच सकते हैं। BharatCaller ऐप का सारा डेटा एन्क्रिप्टेड फॉर्मेट में सेव होता है।

डेटा की सुरक्षा का इस तरह से ख्याल रखा गया था कि उसके डेटा का इस्तेमाल भारत से बाहर कोई भी नहीं कर सकता। यह ऐप अंग्रेजी के साथ-साथ हिंदी, मराठी, तमिल, गुजराती में भी उपलब्ध है।

कॉलर आईडी ऐप क्या है?

कॉलर आईडी ऐप इस दिन और उम्र में एक बहुत ही उपयोगी ऐप है। इससे आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि आपको किसी अनजान व्यक्ति से कौन कॉल कर रहा है। इससे आप फोन करने वाले का नाम पता कर सकेंगे।

भले ही नंबर आपके फोन में स्टोर न हो, फिर भी आप इसकी डिटेल्स चेक कर सकते हैं। इससे आप तय कर सकते हैं कि कॉल का जवाब देना है या नहीं। इसकी ख़ासियत यह है कि इसकी मदद से यह स्कैम कॉल्स को भी ब्लॉक कर सकता है।

यह भी पढ़ें :–

भारतीय रेलवे हरित ऊर्जा की ओर बढ़ रहा है, भारत में जल्द ही हाइड्रोजन ईंधन से ट्रेनें चलेंगी। ज़ी बिजनेस

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.