तुलसी का पानी गले की खराश को दूर करता है

हेल्थ टिप्स: तुलसी का पानी गले की खराश को दूर करता है

 

स्वास्थ्य सुझाव:

बरसात और सर्दी के मौसम में खांसी, नाक बहने के अलावा गले में खराश, सूजन और दर्द आदि की समस्या आम हो जाती है। कुछ एहतियाती उपायों के साथ-साथ कुछ उपायों को अपनाकर इसे कम किया जा सकता है।

मुख्य कारण क्या हैं
कई बार गले में खराश वायरस और बैक्टीरिया के कारण होती है। इससे गले में खराश, सूजन, खाँसी, झुनझुनी, निगलने में कठिनाई आदि हो जाती है।

इसके अलावा, यह समस्या वर्ष के इस समय के दौरान ठंडे पेय, अत्यधिक अम्लीय, तले हुए, संरक्षित खाद्य पदार्थ, एलर्जी और दांतों के कारण भी हो सकती है जो कि नहीं हैं। साफ रखा।

उसकी देखभाल करना
शरीर के विषाक्त पदार्थ गले में खराश को बदतर बनाते हैं। इसलिए इन्हें बाहर निकालने के लिए अधिक से अधिक तरल पदार्थ पीते रहें। प्यास लगे तो गुनगुना पानी ही पिएं।

ज्यादा चिकनाई और मसालेदार चीजों से परहेज करें। इसके बजाय सूजी, उपमा, ओट्स आदि से बना गर्म हलवा खाएं। पनीर, छाछ या अन्य ठंडे पेय पदार्थों का सेवन न करें।
धूम्रपान, तंबाकू और शराब आदि से पूरी तरह परहेज करें।

यह उपाय भी है कारगर
तुलसी का पानी : गले की खराश के लिए तुलसी बहुत कारगर है। इसके कुछ पत्तों को पानी के साथ उबाल लें। ठंडा होने के बाद इस पानी से माउथवॉश की तरह दिन में 3-4 बार गरारे करें।

अदरक है कारगर :

खांसी, जुकाम और गले की समस्याओं के लिए अदरक बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके रस में शहद मिलाकर दिन में 2-3 बार लिया जा सकता है। इसे चाय में डालकर या पानी में थोड़ी चीनी और अदरक डालकर उबाल लें। इस गर्म पेय को धीरे-धीरे पियें।

नमक का पानी काम करता है:

गले में हल्का दर्द होते ही हर तीन घंटे में एक चुटकी नमक मिलाकर गुनगुने पानी से गरारे करना शुरू कर दें। आराम मिलेगा।

यह भी पढ़ें :–

डेंगू की दवा: भारतीय वैज्ञानिकों को मिली डेंगू की दवा, सीडीआरआई लखनऊ में चूहों पर अध्ययन सफल

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.