सैनिटाइजर का इस्तेमाल खतरनाक भी हो सकता है!

सैनिटाइजर का इस्तेमाल खतरनाक भी हो सकता है!

दुनिया भर में फैली महामारी कोरोना वायरस से बचने के लिए लोग सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे हैं क्योंकि कोरोना वायरस से बचने का एक ही तरीका साफ-सफाई बताया जा रहा है। सैनिटाइजर बिना पानी के आसानी से हाथों को साफ कर देता है। लेकिन सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल काफी खतरनाक भी हो सकता है।

सैनिटाइजर सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसलिए यह जानना जरूरी है कि सैनिटाइजर का इस्तेमाल किस तरह करें जिससे यह हमारे सेहत को नुकसान ना पहुंचाएं। जैसे कि हम सब जानते हैं शरीर में अच्छे और बुरे दोनों प्रकार के बैक्टीरिया होते हैं।

जब सैनिटाइजर का इस्तेमाल अधिक मात्रा में किया जाता है तब यह एल्कोहल युक्त सेनेटाइजर बुरे बैक्टीरिया के साथ-साथ अच्छे बैक्टीरिया को भी मार देता है। हमारे शरीर के लिए अच्छे बैक्टीरिया काफी फायदेमंद होते हैं क्योंकि यह शरीर को स्वस्थ रखने का काम करते हैं।

इसलिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल आवश्यकता होने पर ही करना चाहिए बेवजह नहीं। एक शोध में दावा किया गया है कि सैनिटाइजर के बजाय साबुन से हाथ धोना ज्यादा अच्छा विकल्प है क्योंकि कीटाणु को नष्ट करने के लिए 20 सेकंड तक साबुन और पानी से हाथ धोना चाहिए और यह एक अच्छा विकल्प है। सैनिटाइजर का इस्तेमाल सिर्फ बहुत जरूरत होने पर पानी साबुन न होने पर ही करना चाहिए ।

वैसे भी सैनिटाइजर गंदे हाथों को साफ नहीं कर पाता है – जैसे कि अगर हाथ में कीचड़ या मिट्टी जैसी चीज लगी हो तो हम सैनिटाइजर से हाथों की सफाई नहीं कर पाएंगे क्योंकि इससे कीटाणु हाथ में ही चिपके रहेंगे। सेनेटाइजर मिट्टी के कीटाणु को नहीं मार पाता है, ऐसे में पानी और साबुन से हाथ धोना जरूरी होता है ।

कोरोना वायरस से बचने के लिए या फिर किसी भी बुरे वायरस से बचने के लिए बाहर या फिर खेतों में काम करने के बाद, साबुन और पानी से 20 सेकंड तक हाथ धोना चाहिए ।

अगर कोई आपके पास बैठा है और उसे बार बार छींक आ रही है तो ऐसे में सेनीटाइजर का इस्तेमाल फायदेमंद नही होगा क्योंकि ऐसी स्थिति में वायरस सांस के जरिए हवा में मौजूद होता है और सांस के जरिये हमारे शरीर के अंदर चला जाता है। ऐसे में छींकने वाले व्यक्ति से दूरी बनाना ही बेहतर है। ऐसे समय में सैनिटाइजर काम नहीं करता है ।

यह भी पढ़ें : कोरोना और इस तरह के वायरस से बचने के लिए इस तरह घर मे ही बनाये सेनेटाइजर

मालूम हो कि सैनिटाइजर का बार-बार इस्तेमाल करने से बैक्टीरिया प्रतिरोधक क्षमता भी विकसित कर लेते हैं – ऐसा एक शोध में कहा गया है क्योंकि जब ज्यादा हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाता है तब कीटाणु अल्कोहल के प्रति सहनशील बनते जाते हैं। ऐसे में साबुन पानी से ही हाथ धोना अच्छा माना जाता है। वहीं सैनिटाइजर का ज्यादा इस्तेमाल करने से त्वचा भी रूखी हो जाती है।

सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल काफी खतरनाक भी हो सकता है।
सैनिटाइजर का अधिक इस्तेमाल काफी खतरनाक भी हो सकता है।

इस तरह करें सैनिटाइजर का इस्तेमाल : –

हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने के लिए सैनिटाइजर को थोड़ी मात्रा में हाथ में लें और कम से कम 20 सेकंड तक उसे हाथ में रगड़े, ऐसा तब तक करें जब तक कि हाथ पूरी तरीके से सूख न जाये। हैंड सेनीटाइजर का इस्तेमाल आवश्यकता अनुसार ही इन्फेक्शन से बचने के लिए करना चाहिए।

लेकिन हमेशा ध्यान रखेंगे बार-बार अधिक सैनिटाइजर का इस्तेमाल न करें बल्कि इसके बजाय यथा संभव साबुन और पानी से हाथ को अच्छी तरीके से धोएं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.