सिंघाड़ा दिल की बीमारियों से बचाने में होता है मददगार

सिंघाड़ा दिल की बीमारियों से बचाने में होता है मददगार

सिंघाड़ा दिल की बीमारियों से बचाने में होता है मददगार

सिंघाड़ा एक ऐसा फल है जो कि पानी मे उगाया जाता है। यह त्रिभुज की आकृति का होता है। सिंघाड़ा भारत समेत एशिया, अफ्रीका और यूरोप के कई देशों में पाया जाता है।

बहुत से लोग इसकी खेती भी करते हैं। इस फल में सिंग की तरह दो कांटे होते हैं। अंग्रेजी भाषा में सिंघाड़े को वाटर चेस्टनट भी कहा जाता है। सिंघाड़े को लोग कई तरीके से खाना पसंद करते है, कुछ लोग इसे कच्चा खाना पसंद करते हैं तो कुछ लोग उबाल कर खाते हैं।

वही सिंघाड़े के छिलकों को अच्छी तरीके से उतार कर इस सुखा कर आटा भी तैयार किया जाता है। इसके आटे से स्वादिष्ट व्यंजन बनाए जाते हैं। सिंघाड़े का आटा विशेष रूप से व्रत के दौरान लोग फलाहार के रूप में भी करते हैं क्योंकि इसमें पानी बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है।

यह भी पढ़ें : आइये जानते है कैलेस्ट्रोल से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें

आयुर्वेद में सिंघाड़े को दवा की तरह बताया गया है क्योंकि इसमें कई सारे औषधीय गुण पाए जाते हैं जो हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं, विशेष करके दिल से जुड़े बीमारियों में सिंघाड़ा रामबाण औषधि की तरह काम करता है।

सिंघाड़े का सेवन करने से गले की खराश, थकान, सूजन और ब्रोकाइटिस में काफी फायदा मिलता है। आइए जानते हैं सिंघाड़ा कैसे हैं दिल की बीमारियों के लिए फायदेमंद –

दिल की बीमारी में फायदेमंद

सिंघाड़े का सेवन दिल के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा सबसे ज्यादा हाई ब्लड प्रेशर की वजह से देखने को मिलता है। इसके लिए डॉक्टर पोटेशियम युक्त फल और सब्जियों के सेवन ज्यादा से ज्यादा करने की सलाह देते हैं।

सिंघाड़े में पोटेशियम सर्वाधिक मात्रा में पाया जाता है। यह सोडियम से प्रक्रिया करके ब्लड प्रेशर को कम करता है और संतुलित करता है। साथ ही सिंघाड़े में बुरे कॉलेस्ट्रॉल को कम करने के गुण भी पाए जाते हैं। इसलिए दिल से जुड़ी बीमारियों के मरीजों के लिए सिंघाड़ा एक अच्छा फल है।

इंटरनेशनल रिसर्च जनरल ऑफ़ फार्मेसी में छपे एक शोध के अनुसार सिंघाड़े का सेवन कई सारी बीमारियों के खतरे को दूर करता है।

यह भी पढ़ें : बिना जिम गए और बिना जेब ढीली किये इस तरह कम करें मोटापा

सिंघाड़े में अत्यधिक मात्रा में फाइबर होने से यह मोटापे को कम करने और वजन को नियंत्रित करने में भी बहुत मददगार होता है। जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं उन्हें सिंघाड़े को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

सर्दियों का मौसम शुरू होते ही बाजार में सिंघाड़े मिलने शुरू हो जाते हैं।

इस बिमारियों में भी फायदेमंद :-

  • अस्थमा के मरीजों के लिए भी सिंघाड़ा बहुत फायदेमंद होता है, नियमित रूप से सिंघाड़े का किसी न किसी रूप में सेवन करने से सांस से जुड़ी परेशानियों में राहत मिलती है
  • यह बवासीर जैसी समस्याओं से भी निजात दिलाता है।
  • महिलाओं के लिए सिंघाड़े का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। प्रेगनेंसी के दौरान यदि गर्भवती महिला से सिंघाड़े का सेवन करती है तब इससे गर्भपात का खतरा कम हो जाता है साथ ही मां और बच्चे दोनों का स्वास्थ्य अच्छा रहता है
  • सिंघाड़े का सेवन करने से पीरियड्स से जुड़ी समस्याएं भी ठीक हो जाती हैं।