गांगुली के अकेडमी में मिलेगा “वंडर किड” शेख शाहिद को ट्रेनिंग, दिग्गज प्रतिभा देख हैरान

गांगुली के अकेडमी में मिलेगा “वंडर किड” शेख शाहिद को ट्रेनिंग, दिग्गज प्रतिभा देख हैरान

सही कहा जाता है कि प्रतिभा उम्र की मोहताज नहीं होती है । हम बात करने चल रहे हैं एक तीन साल के बच्चे की जिसका नाम है शेख शाहिद और वह भारतीय टीम का कभी हिस्सा जरूर बनेगा । शेख शाहिद जन्म से ही प्रतिभावान है । यह बच्चा अभी तीन साल का है । मालूम हो कि शेख शाहिद दो साल की उम्र में ही सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली की तरह शॉट लगाने शुरू कर दिया था ।

जब भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने शेख शाहिद को बैटिंग करते देखा तो उन्होंने इसे अद्भुत करार दिया । यही नहीं इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज केविन पीटरसन ने भी कोहली से उसे भारतीय टीम में शामिल करने की सिफारिश की । लोग इसे वंडर किड नाम से जान रहे हैं ।

क्रिकेट का यह वंडर किड आजकल सोशल मीडिया पर छाया हुआ है और इसके बल्लेबाजी की तारीफ देश और दुनिया में हो रही है । शेख शाहिद दक्षिण कोलकाता के बिजलानी चलके शकुंतला पार्क में रहने वाले हैं । शाहिद के पिता से शमशेर ने बताया कि भारत-ऑस्ट्रेलिया का क्रिकेट मैच एक दिन जब मैं घर पे देख रहा था, दो साल का शाहिद ने मुझे अचानक बोला मैं भी खेलूंगा तब मैंने प्लास्टिक का क्रिकेट का बल्ला और गेंद लाकर दिया ।

उसने जब पहला शॉट खेला तो मैं हैरान रह गया। वो बिल्कुल मंझे हुए बैट्समैन की तरह खेल रहा था । उससे पूछा तो कहा कि टीवी में जैसा देखा वैसे ही किया । उस समय दो साल का था ।

फिर उसके पिता ने अगले छः महीने तक उसे घर में ही प्रैक्टिस करवाई और जब हर साल ढाई साल का हुआ तो उसे क्रिकेट एकेडमी में एडमिशन दिलाने का फैसला किया । शाहिद के पिता शमशेर ने बताया उसे लेकर गरियाहाट के पास स्थित स्वामी विवेकानंद स्कूल आफ क्रिकेट जब वे पहुंचे तो वहां के लोगों ने इतने छोटे बच्चे को भर्ती करने से इंकार कर दिया क्योंकि 5 साल से कम उम्र के बच्चों को वहां एडमिशन नहीं मिलता था ।

लेकिन काफी जोर करने पर कोच ने पहले बच्चे का टेस्ट लेने की बात कही और जब शाहिद ने पहली गेंद पर शानदार शॉट लगाया तो कोच दंग रह गए और उसे तुरंत अकैडमी में भर्ती कर लिया और तब से उसका प्रशिक्षण स्वामी विवेकानंद स्कूल ऑफ क्रिकेट में चल रहा है ।

शेख शाहिद के पिता शमशेर एक सैलून में काम करते हैं । उनका कहना है ‘मेरे बेटे में अद्भुत प्रतिभा है, पर क्रिकेट एक महंगा खेल है । सलून में पूरा दिन काम करके जो सात आठ हजार कमाता हूं वह परिवार चलाने में खर्च हो जाता है ऐसे में अगर कोई मदद करे तो उनके बेटे का भविष्य संवर सकता है’ ।

अब खबर है कि शाहिद को सौरव गांगुली द्वारा मदद मिलेगी । भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के वर्तमान अध्यक्ष सौरव गांगुली की क्रिकेट एकेडमी से शेख साहिद को प्रशिक्षण का आश्वासन मिला है ।

कोच अमित चक्रवर्ती का कहना है कि शाहिद में अद्भुत प्रतिभा है और फिलहाल शाहिद को प्लास्टिक की हार्ड गेंद और टेनिस बॉल से प्रैक्टिस करवा रहे हैं । उन्होंने बताया कि शाहिद के कद के मुताबिक लकड़ी का बल्ला बाजार में उपलब्ध नहीं होने की वजह से बहुत मुश्किल से उन्होंने एक दुकान से लकड़ी का छोटा सा बल्ला ढूंढ कर उसे गिफ्ट दिए ।

सौरव गांगुली ने 15 दिसंबर को लंदन से साल्टलेक के करुणामई इलाके में स्थित अपनी क्रिकेट एकेडमी “वीडियोकॉन-22 यार्ड्स”  के निर्देशक संजय दास को फोन करके शाहिद के बारे में जानकारी ली । उसके बाद संजय दास ने शाहिद के कोच अमित चक्रवर्ती को फोन करके कहा कि सौरव गांगुली चाहते हैं कि शेख शाहिद जैसी प्रतिभा आर्थिक तंगी के कारण ना खोए ।

जल्दी ही शेख शाहिद की स्पॉन्सरशिप का इंतजाम उनके क्रिकेट एकेडमी की ओर से किया जाएगा । शाहिद जब दो साल आठ महीने का था तो उसके पिता ने उसकी बल्लेबाजी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था और वह तेजी से वायरल हुआ और 91 लाख से भी ज्यादा लाइक्स मिले ।

इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर माइकल वान ने भी ट्विटर पर शाहिद की जमकर तारीफ की और केविन पीटरसन ने भी उस वीडियो को विराट कोहली को टेग करते हुए कहा कि इस बच्चे को भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल कर लो । इस पर प्रतिक्रिया में विराट कोहली ने कहा ये बच्चा कहां से है .. यह तो अद्भुत है । इस बात की संभावना है कि शाहिद बड़ा होकर भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल जरूर होगा ।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.